पाठ्यपुस्तक का संघर्ष 

संसद राजनीति और लोकतंत्र पर स्कूली किताबों में कार्टून नहीं चाहती हैइस मसले को लेकर संसद के दोनों ही सदनों में सारे राजनीतिक दलों में अभूतपूर्व मतैक्य देखा  गयाएक राजनीतिक  दलजिसका नाम नेशनल कान्फरेंस हैइस दमनकारी बहुमत से अलग स्वर में बोलने की कोशिश करता रह गयाउसे क्रूर बहुमत ने बोलने नहीं दियाआखिर वह एक बहुत छोटे से इलाके का थामुख्य भूमि में बन रही सहमति में विसंवादी स्वर पैदा करने की अनुमति उसे दी ही कैसे जा सकती थीउसे उसकी लघुता के तर्क से नगण्य माना जा सकता थायह स्वर कश्मीर  से आ रहा था जिसे भारत का अंग बनाए रखने के लिए देश के क्रूरतम क़ानून की मदद लेनी पड़ती है.

 यह विवरण यहाँ अप्रासंगिक लग सकता है.लेकिन मुझे इसमें एक तरह की प्रतीकात्मक संगति दिखलाई पड़ती हैवह संगति  असहिष्णुताजन्य  अधैर्य  के तत्व से निर्मित होती है जो हमारे सामाजिक और सांस्कृतिक जीवन को परिभाषित करता है और इसीलिए सरलीकरण की पद्धति उसके चिंतन की दिशा तय करती है.आधुनिक स्कूली और परवर्ती  शिक्षा को  सरलीकरण के विरुद्ध एक मानवीय उद्यम के रूप समझा जा सकता हैआधुनिक होने के चलते  वह   चीज़ों और प्रक्रियाओं को उनकी पूरी जटिलता में उद्घाटित करते का यत्न करती है.इस क्रम में वह सतही दृष्टि का प्रत्याख्यान करने का प्रयास करती है.यह कठिन है क्योंकि समाज में व्याप्त सहज बोध निरंतर उसका प्रतिरोध करता हैशिक्षा हमेशा इस सहज बोध को चुनौती देती प्रतीत होती हैउदाहरण के लिए समाज को काला क़ानून कहने की आदत हैपुरुषों को ही नहीं स्त्रियों को भी स्त्री अंगों  को इस्तेमाल करते हुए गाली देने की आदत हैशिक्षा इस सामाजिक  भाषिक व्यवहार में छिपे पूर्वग्रहों   और हिंसा को पहचानने के लिए विश्लेषणात्मक उपकरण जुटाती हैबच्चे के चारों ओर जो सहज है,  उसके लिए असहज हो जाता है.संक्षेप मेंवह हर चीज़ को संदेह  की निगाह से देखना सीख जाता है.शिक्षा को चाहें तो वस्तुतः प्रतिशिक्षा के रूप में ही समझ सकते हैं क्योंकि समुदायधर्म बाज़ारराज्य अपने अपने ढंग से स्कूल के बाहर लगातार दिमागों को अनुकूलित करने का काम तो करते  रहते हैंस्कूलों में नियोजित शिक्षा का इसके साथ सम्बन्ध  असुविधाजनक  ही हो सकता है

यह  शिक्षाशास्त्रीय समझ समाज में बने हुए शक्तिसंतुलन को चुनौती दे सकती हैइसलिए सत्ताप्रतिष्ठान के साथ उसका सम्बन्ध हमेशा ही असहज रहता हैआधुनिक राष्ट्रराज्य शिक्षा को एक उपयोगी ,उत्पादक और अनुशासित नागरिक तैयार करने की दृष्टि से ही देख पाता हैशिक्षा उसमें  एक स्वायत्त कर्ता की सम्भावनाओं को जीवित रखने का प्रयास करती हैइसी वजह से राज्य शिक्षा  की सारी प्रक्रियाओं को नियंत्रित करने का उपाय करता रहता हैनियंत्रण की सबसे सुविधाजनक भूमि  बचपन और उससे जुड़े  सारे स्थान हैंस्कूल का नंबर जिनमें सबसे पहला  हैक्या बच्चे को एक स्वंत्र निर्णयक्षमता संपन्न कर्ता माना जा सकता है जिसके अपने अधिकार और उनसे निर्मित होने वाली स्वायत्तता  है? 1989 में बच्चों के अधिकार से सम्बंधित अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन में बच्चे के जाननेविचार करने और अभिव्यक्त करने की स्वतन्त्रता को स्वीकार किया गया हैभारत ने इस पर दस्तखत किया है.  क्या हमारी संसद इसके वास्तविक आशय को नहीं समझ पा रही है और क्या इसीलिए वह बच्चे की सोचने समझने की प्रक्रिया को नियंत्रित करना चाहती है

जिन पाठ्यपुस्तकों को लेकर संसद में बेचैनी हैवे लोकतंत्र और राजनीति पर केन्द्रित हैंलेकिन वे  एक समग्र पाठ्यपुस्तकरचना प्रक्रिया का हिस्सा हैं जो 2005 के राष्ट्रीय पाठ्यचर्या के सिद्धांतों के अनुसार भारत के श्रेष्ठ राजनीतिविज्ञानियोंइतिहासकारोंभाषाविदोंगणितज्ञों और वैज्ञानिकों ने बालमनोविज्ञान के विशेषज्ञों के साथ मिल कर चलाई  थीपलट कर आठ  साल पीछे के उन क्षणों को देखना उपयोगी होगा.भारतीय जनता पार्टी नीत गठबंधन के शासन की जगह कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन ने सत्ता संभालने के साथ स्कूली शिक्षा में परिवर्तन करना शुरू किया. 2000 की स्कूली पाठ्यचर्या में एक विचारधाराविशेष के प्रभुत्व से चिंतित बौद्धिक समुदाय ने किताबों  और पाठ्यचर्या की समीक्षा की आवश्यकता महसूस की थीतत्कालीन सरकार ने इसके लिए     एनसीआर.टीको यह निर्देश दिया कि वह 1992-93 की स्कूली शिक्षा संबंधी  यशपाल समिति की रिपोर्ट को आधार बना कर समीक्षा की प्रक्रिया आरम्भ करे.  यशपाल की दिलचस्पी स्कूल को विचारधाराओं की जीतहार का नकली अखाड़ा बनाने की जगह बच्चे की समझने की प्रक्रिया  में अधिक     थी.   स्कूली शिक्षा को एक संश्लिष्ट    अनुभव  के रूप में देखने का प्रस्ताव  किया गया पाठ्यपुस्तक जिसका  एक ज़रूरी  लेकिन  एकमात्र  साधन न थीइसके साथ ही शिक्षक  की स्वायत्तता   को स्वीकार  करने पर जोर  दिया गयाशिक्षक  का काम सिर्फ  कुछ विशेषज्ञों द्वारा  तैयार राजकीय  ज्ञान  को छात्र  तक  पहुंचाने  का नहीं थाउसे  छात्र  के साथ मिल कर कक्षा  में  ज्ञान सृजन  की अर्थपूर्ण गतिविधियाँ  संयोजित  करने की आज़ादी  की वकालत  2004-5 की पाठ्यचर्याप्रक्रिया ने की कहा  गया  कि यह खामखयाली  के    अलावा  कुछ नहींकुछ शंकालुओं  ने इसे  सैद्धांतिक  रूप से ठीक  मानने  के बावजूद इसकी व्यावहारिकता को लेकर सवाल उठाएफिर भी यशपाल की दुर्धर्ष  आशावादिता ने एन.सी..आर.टीके तत्कालीन निदेशक कृष्ण कुमार को साहस दिया कि वे अपनी  शिक्षाशास्त्रीय  समझ  का  प्रयोग करें वे अब तक के अपने लेखन में स्कूली शिक्षा के   इच्छित राष्ट्रीय छवि निर्मित करने के उपकरण के रूप में उपयोग की आलोचना करते रहे थे.

पाठ्यपुस्तक को पाठ्यचर्या में बच्चे की रचनात्मक और आलोचनात्मक क्षमता के विकास में सहयोगी के रूप में देखा गयाइसलिए वह किसी एक सत्य को मानने की जगह बच्चे को प्रचलित सत्यों को लेकर सवाल करने को प्रवृत्त करने की दृष्टि से निर्मित की गईअनेक स्थलों पर  कहा जा चुका है कि इस काम में अपने अपने ज्ञानक्षेत्रों के श्रेष्ठ  मस्तिष्क  सामने आएजो पाठ्यपुस्तकें  इस प्रक्रिया में बनींवे 2004 की पुस्तकों  की प्रतिच्छवि  नहीं थींवे एक नितांत भिन्न जीवनदृष्टि प्रस्तावित कर रही थींशिक्षक और बच्चे का सम्मान और उनकी केन्द्रीयता  इनका आधारभूत तर्क थादूसरेपाठ्यपुस्तक की रचना  एक सम्पूर्ण ऐन्द्रिक अनुभव के रूप मेंकी गईइसलिए वे अमूर्त धारणाओं की व्याख्या भर नहीं थीं जिनमें  शब्दों के अलावा कुछ नहीं रहता हैवे विभिन्न संज्ञानात्मक युक्तियों  का उपयोग कर रही थींपाठ्यपुस्तकों  में कार्टून,  जैसा कहा जा रहा है,    हास्य के तत्व के सहारे ज्ञान के गंभीर उपक्रम  में    सिर्फ राहत देने के लिए नहीं हैं  बल्कि वे पाठ की संरचना के लिए अनिवार्य हैं उसके अन्य तत्वों से अभिन्न हैंपाठ्यपुस्तकसमिति ने जो श्रम इन्हें खोजने चुनने और फिर इन्हें मिला कर पाठों की रचना में किया हैउसके पीछे एक समग्र दृष्टि काम कर रही हैकार्टून भाषा की अनेक संभावनाओं को अपने  भीतर छिपाए रखते हैंइस रूप में वे प्रश्नों और शंकाओं का अवकाश पैदा करते हैंउन्हें हटा कर ठीक उसी पाठ की कल्पना करना वैसा ही है जैसे प्रेमचंद की किसी  कहानी के पात्र या संवाद को हटा  कर कहानी का वही अनुभव उपलब्ध करना.

२००५ के बाद बनी पाठ्यपुस्तकें बच्चों को वयस्कों के अधीन अधूरी कृतियों  के रूप में न देख कर चुनाव और निर्णय की क्षमता से संपन्न स्वतंत्र सत्ता के तौर पर देखती और उनसे बात करती हैं. इस समझ के  मुताबिक़  उनकी पहचान भी स्थिर , प्रस्तरीकृत नहीं है, उसमें पर्याप्त तरलता है. वे अपनी सामुदायिक पहचानों के बंदी रहने को  बाध्य नहीं हैं. जाहिर है , इस पहचान में निरंतर निवेश के जरिये जो इससे राजनीतिक मूल्य अर्जित  करना चाहते हैं, उन्हें यह स्वीकार न होगा. इसलिए पाठ्यपुस्तक हो या कुछ और  जो बच्चे को स्वतंत्र होने में उसकी मदद  करना  चाहेगी, उससे उनका द्वंद्व स्वाभाविक है.पिछले  दिनों जो संसद में हुआ ,वह पहले से चले  आ रहे द्वंद्व का अगला चरण है.

हो सकता है कि इस बार कार्टून हट जाएं और किताबें क्षतविक्षत कर दी  जाएं  . लेकिन वह उतना महत्त्वपूर्ण  नहीं है. असल बात यह है कि  पाठ्यपुस्तक  निर्माण के पुराने तरीके की श्रेष्ठता हमेशा के लिए संदिग्ध हो चुकी है और पीछे लौटना अब उतना आसान न  होगा. इन किताबों ने शिक्षकों को भी उनकी स्वायत्तता का जो अहसास करा दिया है, उसे भी बुझाना कठिन होगा.

2005-06 में कुछ वामपंथी  बौद्धिकों ने इन किताबों का विरोध बच्चों की   स्वायत्तता में इनके विश्वास के कारण किया था. आज वे ही इनके साथ खड़े हैं, वे पाठ्यपुस्तकनिर्माण की प्रक्रिया की गरिमा के पक्ष में बात कर रहे हैं. जो अखबार 2006 में इस प्रक्रिया की जटिलता को नहीं समझ पाए थे, वे आज इनकी तरफ से तर्क दे रहे हैं. हमारी समझ बच्चों के बारे में और उन्हें शिक्षित करने की विधियों के बारे में 2005 से आगे ही जा सकती है. 1992-93 की यशपाल रिपोर्ट को  भी दफ़न मान लिया गया था. 2004 में उसने नया जीवन प्राप्त कर लिया. उसी तरह 2005 के पाठ्यचर्या और  पाठ्यपुस्तक सिद्धांतों को दफ़न कर देना अब मुमकिन नहीं.  प्रेमचंद के सूरदास की तरह ही  इस  हार को अंतिम न मान कर अगली पारी के लिए तैयार हो जाना चाहिए

2004-05 में विचारधारात्मक ढांचे से शिक्षा की स्वायत्तता के संघर्ष में ऐसा लगा था कि विचारधारात्मक नज़रिए को पीछे धकेल दिया गया है. 2012 की इस घटना से पता चलता है कि संघर्ष अभी समाप्त नहीं हुआ. बल्कि कोई प्रश्न शायद अंतिम तौर पर कभी हल नहीं कर लिया जाता.

इस बार हमें  पता है कि पाठ्यपुस्तकें अगर इस बार एक कदम पीछे हटेंगी तो अपनी कमजोरी के कारण नहीं , बल्कि इसलिए कि हमारे समाज की राजनीति पर  अभी असुरक्षा हावी है. क्या हम यह मान लें कि वह हमेशा इसी अवस्था में रहेगी?

2 thoughts on “पाठ्यपुस्तक का संघर्ष ”

  1. बच्चों के बारे में

    बच्चों के बारे में
    बनाई गई ढेर सारी योजनाएं
    ढेर सारी कविताएं
    लिखी गईं बच्चों के बारे में
    बच्चों के लिए खोले गए
    ढेर सारे स्कूल, ढेर सारी किताबें
    बांटी गई बच्चों के लिए
    बच्चे बड़े हुए
    जहाँ थे
    वहाँ उठ खड़े हुए बच्चे
    बच्चों में से कुछ बच्चे
    हुए बनिया हाकिम
    और दलाल
    हुए मालामाल और खुशहाल
    बाकी बच्चों ने
    सड़क पर कंकड़ कूटा
    दुकानों में प्यालियाँ धोईं
    साफ किया टट्टीघर
    खाए तमाचे
    बाजार में बिके कौड़ियों के मोल
    गटर में गिर पड़े
    बच्चों में से कुछ बच्चों ने
    आगे चलकर
    फिर बनाई योजनाएं
    बच्चों के बारे में कविताएं लिखीं
    स्कूल खोले
    किताबें बांटी
    बच्चों के लिए। गोरख पाण्डेय
    llllppppppPPपाण्डेय

    गोरख पाण्डेय मोल
    गटर में गिर पड़े
    बच्चों में से कुछ बच्चों ने
    आगे चलकर
    फिर बनाई योजनाएं
    बच्चों के बारे में कविताएं लिखीं
    स्कूल खोले
    किताबें बांटी
    बच्चों के लिए।

    गोरख पाण्डेय

    Like

We look forward to your comments. Comments are subject to moderation as per our comments policy. They may take some time to appear.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s