चायवाला: गौहर रज़ा

Guest post – a poem by GAUHAR RAZA

चायवाला

बहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
उन से
जो अपनी ज़िंदगी
दूसरों को चाय पिलाते गुज़ार देते हैं
बहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
रामदीन, मैकल या ज्ञानी जी से
जो भूखे पेट रहते हैं दिन भर
और टूटे छप्पर, या पेड़ की जड़ के सहारे
चाय के एक प्याले से किसी के माथे की
थकन मिटाते हैं
फ़ैक्टरी के गेट के बाहर,
उस नौजवान का ग़म दूर करते हैं
जिसे अभी अभी नौकरी से निकाला गया है
या किसी राहगीर को सही रास्ता बताते हैं
बहुत फ़र्क़ है यह चाएवाला
उन से जो
देर गए, रात को अपने घर लौटते हैं
चंद सिक्के समेटे, उन गुंडों की गालियों के साथ,
जो रोज़ ज़बरदस्ती चाए पीते हैं,
और बदले में धमकियाँ देते हैंबहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
उस से
जो गली के नुक्कड़ पर बूढा हो गया
चाए पिलाते पिलाते,
जिस की बार बार औंटती हुइ चाय ने
पिछले साठ सालों में
हिन्दुस्तानियत के ज़ाक़े को ढाला है

बहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
रामदीन, मैकल या ज्ञानी जी से
यह चायवाला तो
इन्सानियत, सभ्यता, जमहूरियत,
अमन, शान्ति, एकता का
ईन्धन बना कर, भट्टी सुलगाता है
यह नौजवानों से नौकरियाँ, किसानों से ज़मीनें
औरतों  से इज़्ज़त छीनता है
संविधान के पन्ने जला कर
राजनीति की भट्टी पर
इन्सानों के लहू की चाय बनाता है
बहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
इस के चायख़ाने पर बैठने वाले
गुंडे और पुलिस में कोइ फ़र्क़ नहीं
दोनों, ही पैर छूते हैं इसके
हाँ एक फ़र्क़ है, पुलिस अफ़सर
और गुंडे आज़ाद रहते हैं

बहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
यह हर राहगीर को तरक़्क़ी के नाम पर
फासीवाद का रास्ता बताता है
बहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
रामदीन, मैकल या ज्ञानी जी से
जिन की चाय से उठने वाली भाप
शायरी की जान है

मुझे डर है
कहीं नज़्म की खेतियाँ सूख न जायें
क्योंकि बहुत फ़र्क़ है यह चायवाला
रामदीन, मैकल या ज्ञानी जी से
ज़रा सोचो कितनी भयानक होंगी
इसकी चाय से सींची हुइ कविताएँ

गौहर रज़ा
14.03.2014
Delhi

2 thoughts on “चायवाला: गौहर रज़ा”

  1. Liked it.
    Was reminded of friend Braj Ranjan Mani’s poem which appeared sometime back. (http://www.countercurrents.org/mani291213.htm)

    Kiski Chai Bechata Hai Tu
    (Whose Tea Do You Sell)

    By Braj Ranjan Mani

    29 December, 2013
    Countercurrents.org

    Apane ko chaiwala kyun kehta hai tu
    Baat-baat mein natak kyun karta hai tu
    Chaiwalon ko kyun badnaam karata hai tu
    Saaf-saaf bata de! kiski chai bechata hai tu!

    (Why do you call yourself a teaseller
    Why do you act and lie all the time
    Why do you give a bad name to teasellers
    Say it clearly! Whose tea do you sell!)

    Khoon lagakar anguthe mein shahid hota hai
    Aur corporate mafia mein masiha dekhta hai
    Ambani-Adani ki dalali se ‘vikas’ karata hai
    Arre badmash bata de! kiski chai bechata hai tu!

    (Without getting injured, you turn into martyr
    And seek redeemers in corporate mafia
    ‘Development’ is building Ambani-Adani empire
    O scoundrel! Whose tea do you sell!)

    Khand-khand Hindu pakhand karata hai
    Varnashram aur jati par ghamand karata hai
    Phule-Periyar-Ambedkar se door bhagata hai
    Arre OBC shikhandi! kiski chai bechata hai tu!

    (Immersed thoroughly in the Hindu hypocrisy
    You puff your chest in the caste culture
    And run away from Phule-Periyar-Ambedkar
    Hey OBC pretender! Whose tea do you sell!)

    Masjid-girija girakar deshbhakt banata hai
    Danga-fasaad ki tu darhi-munchh ugata hai
    Dharma ke naam par bas qatleaam karta hai
    Arre haiwan bata to! kiski chai bechata hai tu!

    (Razing mosque or church makes you patriot
    Manufacturing riots you nourish your luxuriant beard
    You butcher the weak in the name of religion
    O devilish terror! Whose tea do you sell!)

    Dharmapatni ko chhod kunwara banata hai
    Phir dost ki beti se chhedkhani karata hain
    Kaali topi aur chaddi se laaj bachata hai
    Arre besharm! kiski chai bechata hai tu!

    (You leave your wife and become bachelor
    To sexually harass your friend’s daughter
    Black cap n’ khaki shorts cover your shame
    O shameless crook! Whose tea do you sell!)

    Kali kartuton par sharma nahin karata hai
    Koshish insaan banane ki zara nahin karata hai
    Chaiwale ko mupht mein badnaam karata hai
    Arre makkar ab kah de! kiski chai bechata hai tu!

    (Never ashamed of your black deeds
    Not least interested in becoming human
    With no recompense, you malign teasellers
    You charlatan! Whose tea do you sell!)

    Apane ko chaiwala kyun kehta hai tu
    Baat-baat mein natak kyun karta hai tu
    Chaiwalon ko kyun badnaam karata hai tu
    Saaf-saaf bata de! kiski chai bechata hai tu!

    (Why do you call yourself a teaseller
    Why do you act and lie all the time
    Why do you give a bad name to teasellers
    Say it clearly! Whose tea do you sell!)

We look forward to your comments. Comments are subject to moderation as per our comments policy. They may take some time to appear.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s