रोहित और राष्ट्रवादी धोखाधड़ी

रोहित वेमुला की खुदकुशी पर बात करने के लिए भावुकतावाद से बाहर निकल आने की जरूरत है. क्योंकि यह खुदकुशी एक क्रूर, ठंडी, असंवेदनशीलता की वजह से ही हुई है जो किसी भी तरह की मानवीय भावुकता को रौंद डालती है.

हम रोहित के अंतिम पत्र की काव्यात्मक भाषा की बात न करें, न यह कहें कि वह अपनी दलित पहचान के दायरे से निकल कर एक कहीं बड़ी पहचान खुद बनाना चाहता था. उस पत्र का विश्लेषण करने की जगह, बेहतर हो कि हम इस खुदकुशी पर शासक वर्ग की प्रतिक्रिया का विश्लेषण करें. यह जानने के लिए कि हमारा सामना किस यथार्थ से है.

विस्तार से पढ़ने के लिए नीचे के  लिंक को देखें http://hindi.catchnews.com/india/we-should-come-out-of-sentimentalism-to-talk-on-rohit-issue-1453295543.html

2 thoughts on “रोहित और राष्ट्रवादी धोखाधड़ी”

    1. There must be some problem at your end, dkrathod54, because I just opened it and it did open.

We look forward to your comments. Comments are subject to moderation as per our comments policy. They may take some time to appear.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s