सब चंगा सी: मुरीद बरघूती/अनुवाद: आयेशा किदवई

You can see the English translation by Radwa Ashour of the original poem in Arabic by the Palestinian poet Mourid Barghouti , after this translation into Hindustani by AYESHA KIDWAI

The Roadmap Creeps in the Page of My Notebook by Arpita Singh

सब चंगा सी

मैं अपने आप को देखता हूँ:

सब चंगा सी.

अच्छा ही तो दिखता हूँ,

और कुछ लड़कियों को तो,

मेरे पक्के बाल भी भा जाएं;

मेरा चश्मा सुड़ौल है,

शरीर का तापमान ठीक ३७ डिग्री.

इस्त्री-की हुई कमीज़ है मेरी, और मेरे जुते काटते नहीं.

सब चंगा सी.

 

मेरे हाथ हथकड़ी नहीं पहने है,

मेरी जुबां आज तक ख़ामोश नहीं की गई है,

अब तक, मैं दण्डित नहीं हुआ हूँ

ना तो नौकरी से बर्ख़ास्त;

जेल में रिश्तेदारों से मिलने की इजाज़त है मुझे,

और कुछ अन्य देशों में कुछ की कब्रों का दौरा करने की अनुमति भी.

सब चंगा सी.

 

मैं हैरान नहीं कि मेरे दोस्त ने

अपने सर पर एक सींग उगा लिया है,

सराहना करता हूँ उस चतुराई की,

जिससे उसने अपनी नुमाया पूँछ कपड़ों में छुपाई है,

और भाते हैं मुझे उसके पुरसुकून पंजे.

मेरी हत्या कर सकता है वो,

पर मैं उसे माफ़ कर दूंगा

क्यूंकि वो मेरा दोस्त है;

मुझे कभी-कभार चोट पहुंचाने का हक़ है उसे.

सब चंगा सी.

 

टीवी एंकर की बत्तीसी देखकर,

अब मेरा जी नहीं मतलाता,

और ख़ाकी का रात-दिन मेरे रंग उतारने का

आदी हो गया हूँ.

इसीलिए

मैं अपने पेहचान पत्र हमेशा अपने साथ रखता हूँ

स्विमिंग पूल में भी.

सब चंगा सी.

 

कल, मेरे ख़्वाब रात की रेलगाड़ी से रवाना हुए,

और मैं बूझ ही नहीं पाया की उन्हें कैसे अलविदा कहूं.

सुना है कि रेलगाड़ी की दुर्घटना हुई

एक वीरान वादी में

(सिर्फ चालक ही बचा).

मैं ने ख़ुदा का शुक्र अदा किया,

और फिर सुस्ताया

क्यूंकि मुझे छोटे-छोटे बुरे सपने आते हैं

जो मैं आशा करता हूँ की एक दिन चलकर बड़े ख़्वाब बनेंगे.

सब चंगा सी.

 

मैं अपने आप को देखता हूँ, जनम के दिन से आज तक.

मायूसी में याद करता हूँ कि

मौत के बाद भी तो ज़िन्दगी है;

मौत के बाद भी ज़िन्दगी है,

और सब चंगा सी.

पर यह सवाल भी पूछता हूँ:

ऐ मेरे खुदा!

मौत से पहले भी क्या ज़िन्दगी है?

 

I HAVE NO PROBLEM (Tr. Radwa Ashour)

I look at myself:

I have no problem.

I look all right

and, to some girls,

my grey hair might even be attractive;

my eyeglasses are well made,

my body temperature is precisely thirty seven,

my shirt is ironed and my shoes do not hurt.

I have no problem.

My hands are not cuffed,

my tongue has not been silenced yet,

I have not, so far, been sentenced

and I have not been fired from my work;

I am allowed to visit my relatives in jail,

I’m allowed to visit some of their graves in some countries.

I have no problem.

I am not shocked that my friend

has grown a horn on his head.

I like his cleverness in hiding the obvious tail

under his clothes, I like his calm paws.

He might kill me, but I shall forgive him

for he is my friend;

he can hurt me every now and then.

I have no problem.

The smile of the TV anchor

does not make me ill any more

and I’ve got used to the Khaki stopping my colours

night and day.

That is why

I keep my identification papers on me, even at

the swimming pool.

I have no problem.

Yesterday, my dreams took the night train

and I did not know how to say goodbye to them.

I heard the train had crashed

in a barren valley

(only the driver survived).

I thanked God, and took it easy

for I have small nightmares

that I hope will develop into great dreams.

I have no problem.

I look at myself, from the day I was born till now.

In my despair I remember

that there is life after death;

there is life after death

and I have no problem.

But I ask:

Oh my God,

is there life before death?

 

We look forward to your comments. Comments are subject to moderation as per our comments policy. They may take some time to appear.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s