Tag Archives: भगतसिंह

महाड़ सत्याग्रह के नब्बे साल

‘‘जब पानी में आग लगी थी’’
Inline image 1
प्रस्तावना
‘क्या पानी में आग लग सकती है ?’’
किसी भी संतुलित मस्तिष्क व्यक्ति के लिए यह सवाल विचित्र मालूम पड़ सकता है। अलबत्ता सामाजिक-राजनीतिक आंदोलनों पर निगाह रखनेवाला व्यक्ति बता सकता है कि जब लोग सदियों से जकड़ी गुलामी की बेड़ियों को तोड़ कर आगे बढ़ते हैं तो न केवल /बकौल शायर/ ‘आसमां में भी सुराख हो सकता है’ बल्कि ‘ पानी में भी आग लग सकती है।’
2017 का यह वर्ष पश्चिमी भारत की सरजमीं पर हुए एक ऐसे ही मौके की नब्बेवी सालगिरह है, जब सार्वजनिक स्थानों से छूआछूत समाप्त करने को लेकर महाड नामक जगह पर सार्वजनिक तालाब से पानी पीने के लिए डा अंबेडकर की अगुआई में हजारों की तादाद में लोग पहुंचे थे। /19-20 मार्च 2017/ कहने के लिए यह एक मामूली घटना थी, लेकिन जिस तरह नमक सत्याग्रह ने आज़ादी के आन्दोलन में एक नयी रवानी पैदा की थी, उसी तर्ज पर इस अनोखे सत्याग्रह ने देश के सामाजिक सांस्कृतिक पटल पर बग़ावत के नए सुरों को अभिव्यक्ति दी थी।

Continue reading महाड़ सत्याग्रह के नब्बे साल

भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरू की शहादत पर डा अम्बेडकर

(Dr. Ambedkar’s editorial on Bhagat Singh-Rajguru-Sukhdev execution on 13th April 1931-available in English here – http://www.bhagatsinghstudy.blogspot.in/2016/03/dr-ambedkars-editorial-on-bhagat-singh.html)
समसामयिक विचार
(जनता, 13 अप्रैल 1931)
भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरू इन तीनों को अन्ततः फांसी पर लटका दिया गया। इन तीनों पर यह आरोप लगाया गया कि उन्होंने सान्डर्स नामक अंग्रेजी अफसर और चमनसिंह नामक सिख पुलिस अधिकारी की लाहौर में हत्या की। इसके अलावा बनारस में किसी पुलिस अधिकारी की हत्या का आरोप, असेम्ब्ली में बम फेंकने का आरोप और मौलमिया नामक गांव में एक मकान पर डकैती डाल कर वहां लूटपाट एवं मकानमालिक की हत्या करने जैसे तीन चार आरोप भी उन पर लगे। इनमें से असेम्ब्ली में बम फेंकने का आरोप भगतसिंह ने खुद कबूल किया था और इसके लिए उसे और बटुकेश्वर दत्त नामक उनके एक सहायक दोस्त को उमर कैद के तौर पर काला पानी की सज़ा सुनायी गयी। सांडर्स की हत्या भगतसिंह जैसे क्रांतिकारियों ने की ऐसी स्वीकारोक्ति जयगोपाल नामक भगतसिंह के दूसरे सहयोगी ने भी की थी और उसी बुनियाद पर सरकार ने भगतसिंह के खिलाफ मुकदमा कायम किया था। इस मुकदमें में तीनों ने भाग नहीं लिया था। हाईकोर्ट के तीन न्यायाधीशों के स्पेशल ट्रीब्युनल का गठन करके  उनके सामने यह मुकदमा चला और उन तीनों ने इन्हें दोषी घोषित किया और उन्हें फांसी की सज़ा सुना दी। इस सज़ा पर अमल न हो और फांसी के बजाय उन्हें अधिक से अधिक काला पानी की सज़ा सुनायी जाए ऐसी गुजारिश के साथ भगतसिंह के पिता ने राजा और वायसराय के यहां दरखास्त भी दी । अनेक बड़े बड़े नेताओं ने और तमाम अन्य लोगों ने भगतसिंह को इस तरह सज़ा न दी जाए इसे लेकर सरकार से अपील भी की। गांधीजी और लॉर्ड इरविन के बीच चली आपसी चर्चाओं में भी भगतसिंह की फांसी की सज़ा का मसला अवश्य उठा होगा और लार्ड इरविन ने भले ही मैं भगतसिंह की जान बचाउंगा ऐसा ठोस वायदा गांधीजी से न किया हो, मगर लार्ड इरविन इस सन्दर्भ में पूरी कोशिश करेंगे और अपने अधिकारों के दायरे में इन तीनों की जान बचाएंगे ऐसी उम्मीद गांधीजी के भाषण से पैदा हुई थी। मगर यह सभी उम्मीदें, अनुमान और गुजारिशें गलत साबित हुई और बीते 23 मार्च को शाम 7 बजे इन तीनांे को लाहौर सेन्ट्रल  जेल में फांसी दी गयी। ‘ हमारी जान बकश दें’ ऐसी दया की अपील इन तीनों में से किसी ने भी नहीं की थी; हां, फांसी की सूली पर चढ़ाने के बजाए हमें गोलियों से उड़ा दिया जाए ऐसी इच्छा भगतसिंह ने प्रगट की थी, ऐसी ख़बरें अवश्य आयी हैं। मगर उनकी इस आखरी इच्छा का भी सम्मान नहीं किया गया। न्यायाधीश के आदेश पर हुबहू अमल किया गया ! ‘अंतिम सांस तक फांसी पर लटका दें’ यही निर्णय जज ने सुनाया था। अगर गोलियों से उड़ा दिया जाता तो इस निर्णय पर शाब्दिक अमल नहीं माना जाता। न्यायदेवता के निर्णय पर बिल्कुल शाब्दिक अर्थों में हुबहू अमल किया गया और उसके कथनानुसार ही इन तीनों को शिकार बनाया गया।

Continue reading भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरू की शहादत पर डा अम्बेडकर

भगतसिंह को दूसरी बार फांसी ? : जिज्ञेश मेवानी

Guest Post by Jignesh Mevani

Image

(कहानी उस खिलवाड की जो भगतसिंह के विचारों के साथ नरेन्द्र मोदी ने गुजरात में किए)

महान क्रान्तिकारी शहीद भगतसिंह के दूर के रिश्तेदार यादवेन्द्र संधु ने कुछ दिन पहले एलान किया है कि वे भगतसिंह की जेल डायरी का नया संस्करण प्रकाशित करेंगे और उसका विमोचन गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों करवाएंगे. जैसे ही ये खबर भगतसिंह के बाकी परिवारजनो तक पहुंची शहीद.ए.आजम का पूरा परिवार सदमे में आ गया, भगतसिंह की जेल डायरी का विमोचन और वो भी नरेन्द्र मोदी के हाथो, हरगिज नहीं . भगतसिंह के करीबी रिश्तेदार जगमोहनसिंह ने इस मसले पर आपत्ति जताते हुए अखबार में निवेदन दिया. गुजरात के दंगो में नरेन्द्र मोदी की जो भूमिका रही उससे वाकिफ सभी का एक ही कहना था की मोदी के हाथों भगतसिंह की जेल डायरी का विमोचन हो उससे तो बेहतर है कि विमोचन का कार्यक्रम ही न हो.

सवाल यह उठता है कि आखिर किस वजह से नरेन्द्र मोदी के नाम पर भगतसिंह के इन तमाम रिश्तेदारों को एतराज है ? Continue reading भगतसिंह को दूसरी बार फांसी ? : जिज्ञेश मेवानी