Tag Archives: हिंदी लोकवृत्त

हिंदी की मार्क्सवादी बहसें – ‘विचारधारा’ से विचारधारा तक :संजीव कुमार

The second lecture in the ‘Sandhan Vyakhyanmala’ series  – initiated by New Socialist Initiative ( Hindi Pradesh) will be delivered by Sanjeev Kumar, Well known Critic and Deputy General Secretary of Janwadi Lekhak Sangh  on Saturday 15 th January 2022 at 6 PM (IST). He will be speaking on हिंदी की मार्क्सवादी बहसें : ‘विचारधारा’ से विचारधारा तक ( Hindi ke Marxwadi Bahasein : ‘Vichardhara’ se Vichardhara tak)
The focus of this lecture series – as you might be aware – is on  the Hindi belt, especially, on literature, culture, society and politics of the Hindi region where we intend to invite writers, scholars with a forward looking, progressive viewpoint to share their concerns. The inaugural lecture in the series was delivered by poet and thinker Ashok Vajpayi, where he spoke on ‘Thought and Literature”

सन्धान व्याख्यानमाला
दूसरा वक्तव्य
हिंदी की मार्क्सवादी बहसें : ‘विचारधारा’ से विचारधारा तक
वक्ता : श्री संजीव कुमार
आलोचक संयुक्त महासचिव, जनवादी लेखक संघ
15 जनवरी , शनिवार शाम 6 बजे

सारांश

क्या वजह है कि हिंदी में पिछली सदी के 40 और 50 के दशक में प्रगतिशीलों के बीच जितने मुद्दों पर मतभेद उभरे, उनमें वही मत संख्याबल से विजयी रहा (और कमोबेश अभी तक है) जो हिंदी लोकवृत्त की स्थापित मान्यताओं के प्रति पूरी तरह से अनालोचनात्मक था? क्या यह एक परिवर्तनकामी वैचारिकी का परचम लहरानेवालों के भीतर वर्चस्व की प्रदत्त व्यवस्था का पोषण करनेवाली विचारधारा की सुप्त मौजूदगी थी जो भक्ति आंदोलन की विभिन्न धाराओं के रिश्ते, कथित हिंदी नवजागरण में भारतेन्दु और उनके मंडल के योगदान, हिंदी-उर्दू और उनके इलाक़े की सभी भाषाओं के आपसी संबंध, साहित्य में यौन-नैतिकता जैसे तमाम मसायल पर सभी असहज करनेवालों सवालों को हाशिये पर धकेल रही थी? क्या प्रगतिशील और मार्क्सवादी होने में अपने ‘संस्कारों’ के साथ एक तकलीफ़देह लड़ाई लड़ने और उपलब्ध सहूलियतों-रियायतों का त्याग करने की जो अपेक्षा निहित होती है, यह उससे पल्ला छुड़ाना था? या कि यह प्रगतिशील आंदोलन को वर्चस्वशाली बनाने के लिए सबको अपने साथ ले चलने की एक कार्यनीतिक पहल थी जो कि शायद सफल भी रही?

एक आत्मावलोकन से शुरुआत करनेवाला यह पर्चा इन प्रश्नों की दिशा में एक प्रस्थान है।  

आयोजक 
न्यू सोशलिस्ट इनिशिएटिव ( हिंदी प्रदेश)