Sad at Killing of My Ambedkarite Elder Sister Gauri Lankesh, says Chandrashekhar of Bhim Army, as Govt Moves to Slap NSA on BA Activists

This is an amazing moment. From what we at the Committee for the Defense of Bhim Army have gathered, and from Chandrashekhar’s own letter from Saharanpur District Jail (see below), the administration is moving to slap charges under the National Security Act on Chandrashekhar and other activists. However, while expressing his resolve to fight on, Chandrashekhar also makes it clear in this letter (the facsimile and the text below) that he is equally concerned and saddened at the killing of Gauri Lankesh. He refers to her as his ‘Ambedkarite elder sister’ and pledges to carry forward the struggle to get her justice as well. This is how different dots in the struggle get connected. This is how new nodes of thinking and doing politics emerge. Right now, for us however, the struggle, for the legal defense of Chandrashekhar and other Bhim Army activists is paramount. They want to crush the movement in its infancy and we must ensure it can grow and carry on its struggle for liberation from the yoke of Hinduism and Hindutva.
It is worth placing on record here that when the formation of the Committtee for the Defense of Bhim Army was announced, Gauri had got it touch and expressed her wish to be on the Committee. Unfortunately, that was not to be. But we are sure that this is perhaps the best tribute we can offer to Gauri – carry on the fight for the defense of Bhim Army!
Chandrashekhar’s letter from jail
सभी साथियों व माताओं बहनों को जय भीम जय भारत, जय भीम आर्मी,
 एक आवश्यक बात आप सब से शेयर करनी है उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले की जेल इस समय मेरा घर है. एक सूचना आई थी की काले अंग्रेजों की तानाशाह सरकार और उनके हाथ की कठपुतली बना जिला प्रशासन यह चाहता है कि मैं अपनी जमानत अर्जी ना डालू अगर मैं जमानत की अर्जी डलवाता हूं तो वो मेरे ऊपर रासुका लगा देंगे.
पहली बात तो मैं यह स्पष्ट कर दूं कि यह देश हमारा है इस देश के 85 % दलित पिछड़े मुस्लिम वह अल्पसंख्या लोग अपने ही देश में गुलाम अब नहीं रहेंगे हम इस देश के Rakshak भी है और शासक भी है 85 % लोग यहां के मूल निवासी है और दलितों का रक्षक दल चमार जाति की चमार रेजिमेंट इनका उदाहरण है हमने इस देश के लिए बलिदान दिया है काले अंग्रेज जो दलित विदेशी होने का दावा करते हैं वह भीम आर्मी के प्रभाव से डरकर मुझ पर रासुका लगाकर मुझे डराना चाहते हैं तो मैं उन्हें यह कहना चाहता हूं कि रासुका ही नहीं वह चाहे तो मुझे फांसी लगा दे तो भी वह मुझे झुका नहीं सकते.
मैं एक बार नहीं एक हजार बार भी अपनी कौम के लिए हंसते हंसते फांसी चढ़ना पसन्द करुगा और मान-सम्मान वे इस देश में अधिकारों की जो लड़ाई है उसे पीछे नहीं हटूंगा. आजाद न तो कभी झुका है और ना कभी झुक  कर कोई समझौता करेगा मुझे गर्व है कि मैं चमार जाति में पैदा हुआ जब तक लहू का आखरी करता रहेगा अपने लोगों की सुरक्षा अधिकार वह मान सम्मान के लिए संघर्ष जारी रहेगा ।।
अंबेडकरवादी बड़ी  बहन गौरी लंकेश की हत्या से दुखी हूं पर इनके जज्बे को सलाम उनकी शहादत बेकार नहीं जाएगी हम सब उनको न्याय दिलाकर रहेंगे वो कभी झुकी नहीं इसलिए बड़ी खुशी से आपको यह कहना चाहता हूं कि अगर कल मैं ना भी रहूं तो पीछे न हटना संघर्ष करना आपके संघर्ष से हमारे आने वाली पीढ़ियां इस देश की शासक होगी बाबा साहब ने कहा जीवन लंबा नहीं महान होना चाहिए गुलामी और सम्मान का एक दिन बड़ा होता है उन हजारों साल से ना झुका हु  ना झुका गा ना रुका हु ना रुकू गा और ना बिका हु ना बिकुगा आजाद जिया था आजाद मरूँगा  जय भीम नीला सलाम जय साहब कांशीराम ।
       आपका भाई बेटा दोस्त
*(एडवोकेट चंद्रशेखर आजाद रावण संस्थापक भीम आर्मी भारत मिशन)*

We look forward to your comments. Comments are subject to moderation as per our comments policy. They may take some time to appear.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s