All posts by ravikant

The Terror That Is Man: Shaj Mohan

Guest post by SHAJ MOHAN

Manifold is the un-homely, yet nothing is more un-homely than man — Sophocles

The middle of the previous century is understood to be the termination of all kinds of containments of man, having witnessed the worst containment in the Camp[i]. This termination resulted from a crisis that is both philosophical and political: what is the de-termination of man such that he is not the contained? A summary of this scenario is found in a trivial understanding of Foucault’s statements concerning “the end of man” (The Order of Things) and Derrida’s deconstruction of the notion of the “the end” in his essay “Ends of Man” (Margins of Philosophy). As a result of the exigencies of the philosophical and the political, the concept of the state located itself, in the occidental domain, away from the containers. The State would no longer claim to be the clergy and the sovereign of containers such as race and religion. Instead, the State demanded only the right to primary containment—first Indian and then Muslim, first British then White, first Spanish then Basque. The list, the differences, the classification and the management of all the other containers—religion, caste, language, race, public, private—were left up to the new clerics, the new academic disciplines and the NGOs. If all containers were opened up then everything should have flooded out and mixed to form a substance of a new world of people; rather, a substantiality for the in-terminable formation of people. This new people-substance should have dissolved the traces of all the containers, the way science-fiction often imagines the future to be. It should have left for us tales which are the negative of memories, that is, taboos, or myths. For example, the tales that we received about incest from the ancients, the tales of cannibalism in fairy tales, the tales of the world’s resistance to Nazism. Continue reading The Terror That Is Man: Shaj Mohan

‘Cities of Sleep’: Anirban Gupta-Nigam

Guest post by ANIRBAN GUPTA-NIGAM – A Preview of SHAUNAK SEN’S film ‘Cities of Sleep

A few days ago, on its Facebook page, Business Insider India shared a series of images of Bollywood stars who had gone—plainly speaking—from “zeroes to heroes”[1]. The yardstick for what constitutes success is another matter (Mithun Chakraborty, for example, is celebrated because he progressed from being a ‘Naxalite’ to ‘India’s highest tax payer’), but accompanying the post were the following words: ‘Every great dream begins with a dreamer. Always remember, you have within you the strength, the patience, and the passion to reach for the stars to change the world’. In another words, dare to dream and you shall become all you want to be.

This simple, inspiring message is possibly more complex than it first appears to be. It contains within it a contradiction that might well be worth attending to. Specifically, the images implicitly demand that we ask who (or what) is a ‘dreamer’ today.

The famous comedian George Carlin once said that ‘they call it the American dream because you have to be asleep to believe it’. A problem of a similar order is posed by the images in question here. Taken at face value, the mantra ‘every great dream begins with a dreamer’ not only propagates an all too familiar narrative of entrepreneurial success. It also comes with a qualifier—every great dream begins with a dreamer. Which is to say, not all dreams qualify for this honor. Continue reading ‘Cities of Sleep’: Anirban Gupta-Nigam

Of Hanuman, Pakistan and Bhaijaan: Prabhat Kumar

Guest post by PRABHAT KUMAR

Hanuman in the Enemy Land

What did our Ram-bhakt Hanuman do in Lanka, the land of his master’s enemy when he went there in the golden past? Everybody knows. What will Hanuman do, if today he is sent to Pakistan? Lankan voyage of Hanuman then, and cinematic expedition of his modern counterparts now (Sunny Deols of Border, The Hero, Ghadar, etc.), leave no room for imagination. Pakistan – the enemy land of India’s nationalist imagination – must be taught a lesson, as Rashtra-bhakt TV news anchors keep shouting from behind fire and embers on the screen.

We have seen on almost daily basis the bhakts, posing variously as Rashtra-bhakt or Ram-bhakt or lately as NaMo-bhakt. Bhakts, who persistently wish to annihilate the enemy land in TV studios, social media, or movie theatres. However, what a latest Hindi film Bajrangi Bhaijan shows is an unusual, or should I say, an abnormal bhakt. A bhakt, who does not want to destroy Pakistan! Lo and behold, he is a Hanuman-bhakt! He is called Bajrangi-Bhaijaan (Salman Khan). For, the word Bajrangi is a synonym of Hanuman, the ubiquitous monkey-god. He is bhaijaan because he is unable to lose his affection for a cute little girl even after knowing that she is a Muslim and, more than that, a Pakistani! Continue reading Of Hanuman, Pakistan and Bhaijaan: Prabhat Kumar

भाषा का सवाल और फ़िल्मी सदी का पैग़ाम

हलाँकि फ़िल्म हिन्दी में बन रही है, लेकिन (ओंकारा के) सेट पर कम-से-कम पाँच भाषाएँ इस्तेमाल हो रही हैं। निर्देशन के लिए अंग्रेज़ी, और हिन्दी चल रही है। संवाद सारे हिन्दी की एक बोली में हैं। पैसे लगानेवाले गुजराती में बातें करते हैं, सेट के कर्मचारी मराठी बोलते हैं, जबकि तमाम चुटकुले पंजाबी के हैं।

स्टीफ़ेन ऑल्टर, फ़ैन्टेसीज़ ऑफ़ अ बॉलीवुड लव थीफ़

 पिछले सौ साल के तथाकथित ‘हिंदी सिनेमा’ में इस्तेमाल होनेवाली भाषा पर सोचते हुए फ़ौरन तो यह कहना पड़ता है कि बदलाव इसकी एक सनातन-सी प्रवृत्ति है, इसलिए कोई एक भाषायी विशेषण इसके तमाम चरणों पर चस्पाँ नहीं होता है। आजकल ‘बॉलीवुड’ का इस्तेमाल आम हो चला है, गोकि इसके सर्वकालिक प्रयोग के औचित्य पर मुख़ालिफ़त की आवाज़ें विद्वानों के आलेखों और फ़िल्मकारों की उक्तियों में अक्सरहाँ पढ़ी-सुनी जा सकती हैं।[1] ग़ौर से देखा जाए तो बंबई फ़िल्म उद्योग के लिए ‘बॉलीवुड’ शब्द की लोकप्रियता और सिने-शब्दावली में ‘हिंगलिश’ की प्रचुरता एक ही दौर के उत्पाद हैं, और यह महज़ संयोग नहीं है। हालाँकि सिने-इतिहास में हमें शुरुआती दौर से ही अंग्रेज़ी के अल्फ़ाज़, मिसाल के तौर पर तीस और चालीस के दशक तक बड़ी मात्रा में प्रयुक्त दुभाषी फ़िल्मी नामों में, मिलते रहे हैं। लेकिन होता ये है कि एक दौर की लोकप्रिय या विजयी शब्दावली पूरे इतिहास पर लागू कर दी जाती है, जिससे एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक प्रक्रिया, और उसके भाषायी अवशेष, इतिहास के कूड़ेदान में चले जाते हैं। मसलन अब एक स्थानवाची शब्द लें: एक शहर का बंबई से मुंबई बनना एक हालिया और औपचारिक/सरकारी सच है, एक हद तक सामाजिक भी, वैसे ही जैसे कि हम जिसे ‘बंबई फ़िल्म उद्योग’ कहते आए हैं, वह भी एक ऐतिहासिक तथ्य रहा है, लेकिन हमें इस बात की भी अनदेखी नहीं करनी चाहिए कि आज़ादी से पहले, बंबई के सर्वप्रमुख केन्द्र के तौर पर स्थापित होने से पहले, पुणे, कलकत्ता, लाहौर, मद्रास और कुछ हद तक दिल्ली भी सिने-उत्पादन के केन्द्र रह चुके थे।

Continue reading भाषा का सवाल और फ़िल्मी सदी का पैग़ाम

अपुन का मंटो: पाकदिल, सियाहक़लम, अपूर्व, अप्रतिम, अखंड

 

मंटो ने रचनात्मक अभिव्यक्ति के लिए कला की कोई भी दिशा चुनी हो, हंगामा किसी न किसी तरह अवश्य हुआ।
– बलराज मेनरा व शरद दत्त

 

कोई सत्तावन साल पहले महज़ बयालीस की उम्र में तक़सीम-ए-हिन्द और शराबनोशी के मिले-जुले असर से अकालकालकवलित मंटो आज सौ का होने पर भी उतना ही हरदिलअज़ीज़ है, जितना हैरतअंगेज़, उतना ही लुत्फ़अंदोज़ है, जितना तीरेनीमेकश। शा यद आज भी उतना ही मानीख़ेज़। बल्कि यूँ मालूम होता है कि वक़्त के साथ उसके अनपढ़ आलोचकों की तादाद कम होती गई है और पिछले दो-तीन दशकों में मुख़्तलिफ़ विधाओं में पसरे उसके लघु-कथाओं व बड़े अफ़सानों, मज़ामीन, रेडियो नाटकों, मंज़रनामों, ख़तों, फ़िल्मी संस्मरणों और अनुवादों के बारीकतरीन पाठों का सिलसिला थमने की जगह ज़ोर पकड़ने लगा है। और पाठ-पुनर्पाठ की ये धारा सिर्फ़ उर्दू या हिन्दी में ही नहीं, बल्कि अंग्रेज़ी में भी मुसलसल बह निकली है। जिसके बूते दक्षिण एशिया का यह अप्रतिम कहानीकार अब समस्त दुनिया की एक नायाब धरोहर बन गया है। यह वाजिब भी है क्योंकि मंटो के अदब व फ़लसफ़े में पश्चिम व पूर्व का अद्भुत संगम हुआ। मोपासाँ, चेखव व गोर्की वग़ैरह से उसने अगर तुला हुआ, मुख़्तसर अंदाज़े-बयान सीखा तो एशियाई माहिरों से रस बरसाने वाली दास्तानगोई का चमत्कार, और तफ़्सीलात का इज़हार।

Continue reading अपुन का मंटो: पाकदिल, सियाहक़लम, अपूर्व, अप्रतिम, अखंड

This, that and other cartoons: Prabhat Kumar

Guest post by PRABHAT KUMAR

I wish to intervene in the ruckus over usage of Shankar’s cartoon in the NCERT’s political science text book. At the outset I want to clarify my personal impression (although inconsequential!) of the book and the cartoon therein. I feel the textbook in general is pedagogically superior to the previous ones for it does not infantilise young students as lacking critical ability. I also believe, as Aditya Nigam has rightly pointed out, it has accorded Ambedkar the status of a leading political and intellectual figure so far ignored. The cartoon in particular, both in the context of the narrative of the textbook as well as of its production in 1949, is not attacking Ambedkar the crusader of Dalits’ rights.

Continue reading This, that and other cartoons: Prabhat Kumar

हिन्दी फ़िल्म अध्ययन: ‘माधुरी’ का राष्ट्रीय राजमार्ग

(ये लेख स्रोत-चिंतन जैसा है, जिसे पीयूष दईया के कहने पर मैंने लोकमत समाचार, दीवाली विशेषांक, 2011 के लिए लिखा था। अपनी आलोचनात्मक टिप्पणियों से नवाज़ेंगे तो अच्छा लगेगा।)

This slideshow requires JavaScript.


बहुतेरे लोगों को याद होगा कि टाइम्स ऑफ़ इंडिया समूह की फ़िल्म पत्रिका माधुरी हिन्दी में निकलने वाली अपने क़िस्म की अनूठी लोकप्रिय पत्रिका थी, जिसने इतना लंबा और स्वस्थ जीवन जिया। पिछली सदी के सातवें दशक के मध्य में अरविंद कुमार के संपादन में सुचित्रा नाम से बंबई से शुरू हुई इस पत्रिका के कई नामकरण हुए, वक़्त के साथ संपादक भी बदले, तेवरकलेवर, रूपरंग, साजसज्जा, मियाद व सामग्री बदली तो लेखकपाठक भी बदले, और जब नवें दशक में इसका छपना बंद हुआ तो एक पूरा युग बदल चुका था। [1] इसका मुकम्मल सफ़रनामा लिखने के लिए तो एक भरीपूरी किताब की दरकार होगी, लिहाजा इस लेख में मैं सिर्फ़ अरविंद कुमार जी के संपादन में निकली माधुरी तक महदूद रहकर चंद मोटीमोटी बातें ही कह पाऊँगा। यूँ भी उसके अपने इतिहास में यही दौर सबसे रचनात्मक और संपन्न साबित होता है। Continue reading हिन्दी फ़िल्म अध्ययन: ‘माधुरी’ का राष्ट्रीय राजमार्ग