A Poem For Umar, Khalid Saifi and Other Political Prisoners: Nabiya Khan

Guest Post by NABIYA KHAN

Our valiant young activists, defenders of democracy, continue to be in prison for almost a year – some a bit more and some a bit less. All under entirely framed charges, while the actual perpetrators of violence continue to roam free, spreading hate. Celebrating the commitment and courage of these activists, here is an offering by Nabiya Khan, courtesy Karwan-e-Mohabbat. The Devanagari and Urdu texts follow after the video

Continue reading A Poem For Umar, Khalid Saifi and Other Political Prisoners: Nabiya Khan

समीक्षा एक प्रेम दर्शन है

मुक्तिबोध प्रगतिवादी नहीं रह गए। मार्क्सवादी बने रहे। दोनों में विरोध कुछ लोगों को दीख सकता है। लेकिन मुक्तिबोध के अनुसार मार्क्सवादी होने के कारण ही वे प्रगतिवाद के दायरे से आगे निकल सके। प्रगतिवाद एक समय के बाद एक आग्रह जैसा बन कर रह गया था। एक मायने में दुराग्रह। कम से कम मुक्तिबोध को ऐसा ही प्रतीत होता था। जबकि मार्क्सवाद उनके लिए विज्ञान था। विज्ञान अपने व्यापकतम अर्थ में। विज्ञान जो विज्ञानवादी जड़ता से ग्रस्त नहीं है। वह जो प्रश्न, प्रयोग और परीक्षा पर टिका हुआ है। मार्क्सवाद को शेष विचार-प्रणालियों या दर्शनों से श्रेष्ठ साबित करने के लिए भी उसे विज्ञान कहा जाता है। मुक्तिबोध में भी यह  प्रवृत्ति देखी जाती है। फिर भी रचनाकार होने के कारण उनके लिए मार्क्सवाद को एक मूल्य व्यवस्था के रूप में ही श्रेय है। बुद्ध की तरह ही मार्क्स यह कहते जान पड़ते हैं कि दुःख है,  दुःख का कारण है और उसका निवारण भी है।

‘समीक्षा की समस्या’ नामक निबंध में मुक्तिबोध ‘ईमानदार प्रखर वैज्ञानिकता’ को मानव धर्म कहते हैं: 

उसमें एक साथ आत्म-निरपेक्षता और ग्रहण (?) आत्मसंबंध, लक्ष्योन्मुखता और विस्तृत अनेकपक्षीय तथ्य संवेदना, तथ्य ग्रहण-क्षमता उपस्थित है। अपने अज्ञान का स्वीकार और ज्ञान का अग्र-वेग भी उसमें है।”

Continue reading समीक्षा एक प्रेम दर्शन है

Untimely Explorations in a ‘Field’ Called ‘Marxism’

Zapatista (EZLN) ‘irregulars’ militia (male and female) who receive military training but are mobilized only in emergencies, Courtesy: Anya Briy and OpenDemocracy

I am interested in ‘Marxism’ as a field or a force-field in the sense in which we think of electromagnetic or gravitational fields, where objects and bodies impact on other bodies and objects, and have effects, without necessarily coming into contact.

Ever since the 2008 financial crisis and the beginning of the end of the neoliberal order, when sales of Marx’s writings, of Capital in particular, went up dramatically, there have been prognostications of the ‘return of Marx’. Indeed, there has also been an attempt, for a much longer time now, especially after the collapse of Soviet-bloc socialism, of a ‘return to Marx’. Both the millennial expectation of Marx’s Second Coming and that of a ‘return to’, display a distinct theological orientation –  insisting on a return to the pristine source, uncontaminated by the ‘deviations’ wrought by Leninist or Maoist-inspired practice in the underdeveloped regions of the world.

Continue reading Untimely Explorations in a ‘Field’ Called ‘Marxism’

प्रगतिवाद : मानवता-सिंधु में डूबी व्यक्ति-धारा ?

मुक्तिबोध शृंखला:29 

मुक्तिबोध मार्क्सवादी हैं। मार्क्सवादी होने के साथ-साथ प्रगतिवादी भी। क्या मार्क्सवादी दृष्टि ही साहित्य और कला में प्रगतिवाद के नाम से जानी जाती है? क्या कम्युनिस्ट पार्टी के सांस्कृतिक क्षेत्र में प्रभाव विस्तार करने के लिहाज से ही प्रगतिशील आंदोलन का महत्त्व है? क्या प्रगतिवाद और प्रगतिशील आंदोलन या संगठन एक दूसरे में गुँथे हुए हैं? 

मुक्तिबोध का रिश्ता प्रगतिवाद और प्रगतिशील लेखक संघ से पेचीदा रहा। मार्क्सवादी होने के कारण और राजनीतिक रूप से सक्रिय होने की वजह से वे प्रगतिशील आंदोलन से जुड़े। लेकिन उस दायरे में साहित्य को देखने के तरीके को लेकर उनकी बहस उन लोगों से होती रही जो इस आंदोलन या संगठन के विचारधारात्मक नेता थे। दृष्टि के संगठन में बदलते ही एक प्रकार की दृष्टिबद्धता दिखलाई पड़ने लगी। यह मुक्तिबोध के स्वभाव के विरुद्ध था। याद कीजिए ‘चाँद का मुँह टेढ़ा है’ में शमशेर बहादुर सिंह की भूमिका का वह अंश:

” ” तुम क्यों उनका दमन कर रहे हो!” वह बेहोशी में भी बड़बड़ा कर पूछता है। …. “अपने अपने आइडियाज़ हैं।”…”

लेकिन जब एक संगठित आंदोलन चल रहा हो तो वह बेहोश नहीं हो सकता। सबको अपने आइडियाज़ रखने की छूट नहीं दी जा सकती। उदारता संगठन के स्वभाव के ही विरुद्ध है शायद। और संवाद की जगह विवादात्मकता को संगठन अपनी शैली बना लेता है। प्रगतिवाद पहली ऐसी साहित्यिक प्रवृत्ति थी जिसने एक संगठन के सहारे अपनी श्रेष्ठता स्थापित करने की कोशिश की।

Continue reading प्रगतिवाद : मानवता-सिंधु में डूबी व्यक्ति-धारा ?

AMENDMENT TO CENTRAL CIVIL SERVICES PENSION RULES CURTAILS FREEDOM OF EXPRESSION OF RETIRED OFFICIALS: Constitutional Conduct Group

Open letter to Prime Minister by Constitutional Conduct Group

Dear Prime Minister,

We are former officers of the All India and Central Services who have worked with the Central and State Governments in the course of our careers. We have no political affiliation but have come together as the Constitutional Conduct Group because we believe in impartiality and neutrality and in safeguarding the values of the Indian Constitution.

We were surprised, and deeply disturbed, by the recent amendment to the Central Pension Rules notified by the Ministry of Personnel, Public Grievances and Pensions on 31 May 2021. By this amendment, retired government servants who have worked in any intelligence or security related organisation included in the Second Schedule of the Right to Information Act 2005 have to take the clearance of the head of the organisation if they wish to make any publication after retirement, if such publication relates to and includes:

(i) domain of the organisation, including any reference or information about any personnel and his designation, and expertise or knowledge gained by virtue of working in that organisation; Continue reading AMENDMENT TO CENTRAL CIVIL SERVICES PENSION RULES CURTAILS FREEDOM OF EXPRESSION OF RETIRED OFFICIALS: Constitutional Conduct Group

Functioning of Panchayati Raj Institutions in Bihar – Devolution or Delegation? Mayank Labh

Guest Post by  MAYANK LABH

The upcoming panchayat election in Bihar is a good occasion to examine the broader issues faced by the Panchayati Raj Institution (“PRIs”) in Bihar. According to media reports, the State Election Commission of Bihar has started to prepare for the upcoming panchayat election in Bihar, and the poll process would commence from the end of August.[1] Preceded by a 23-year gap as large-scale violence marred the 1978 panchayat elections, the panchayat elections in Bihar have been held on a mandated five-year interval since 2001. However, apart from conducting the panchayat elections, the National Democratic Alliance (“NDA”) government in Bihar has done little to further participatory democracy as the idea of local self-government remains illusory even after about 1,27,391 representatives get elected after every five years. Continue reading Functioning of Panchayati Raj Institutions in Bihar – Devolution or Delegation? Mayank Labh

मुक्तिबोध और मार्क्सवाद: एक अधूरा संवाद

मुक्तिबोध शृंखला:28

मुक्तिबोध के मार्क्सवाद और उनके व्यक्तित्व में एक फाँक की शिकायत एक समय तक हिंदी के कुछ मार्क्सवादी आलोचक करते रहे। उसका कारण था उनके अनुसार मुक्तिबोध में निजता या आत्मपरकता का अतिरेक। लेकिन मुक्तिबोध मार्क्सवाद तक आए थे अपनी उस समस्या का समाधान खोजते हुए कि मनुष्य अपना विस्तार कैसे कर सकता है। एक सार्थक जीवन जीने की कोई पद्धति हो सकती है या नहीं? वह अपना अकेलापन कैसे दूर करे? अपने आत्म को वह समृद्ध कैसे करे? क्या मार्क्सवाद औसतपन का शास्त्र है? या वह व्यक्ति के, हर व्यक्ति के जीनियस को महत्त्व देता है और उसके प्रस्फुटन में उसकी मदद करता है?

‘मार्क्सवादी साहित्य का सौन्दर्यशास्त्र’ में मुक्तिबोध मार्क्सवाद के बारे में कहते हैं:

मार्क्सवाद मनुष्य को कृत्रिम रूप से बौद्धिक नहीं बनाता है, वरन उसे ज्ञानालोकित आदर्श प्रदान करता है। मार्क्सवाद मनुष्य की अनुभूति को ज्ञानात्मक प्रकाश प्रदान करता है। वह उसकी अनुभूति को बाधित नहीं करता, वरन बोधयुक्त करते हुए उसे अधिक परिष्कृत और उच्चतर स्थिति में ला देता है। संक्षेप में, मार्क्सवाद का मनुष्य की संवेदन-क्षमता से कोई विरोध नहीं है, न हो सकता है।

संवेदना को बोधयुक्त करके उसके परिष्कार का क्या अर्थ है? संवेदन क्षमता तो हर मनुष्य में है। लेकिन क्या हर किसी के पास वह एक जैसी है? क्यों कुछ की वह सीमित होती है और कुछ की तीक्ष्ण? क्या इसका कारण उस मनुष्य या व्यक्ति के भीतर है? मार्क्स के अनुसार इसका कारण बाहर है। बाहरी भौतिक परिस्थितियाँ किसी मनुष्य की संवेदना की सीमा तय करती हैं ।

Continue reading मुक्तिबोध और मार्क्सवाद: एक अधूरा संवाद

Concerned Historians Respond to Parliamentary Standing Committee on Education On History Textbooks

[We are publishing below the full response of Concerned Historians to the Parliamentary Standing Committee on Education, regarding certain proposed changes.]

RESPONSE OF CONCERNED HISTORIANS On the

CALL FOR REVISIONS IN SCHOOL HISTORY BOOKS IN INDIA

To be shared with the Parliamentary Standing Committee on Education pertaining to school history books.

Date: 15th July 2021

We have recently learnt of representations being collected by the Department-related Parliamentary Standing Committee on Education, Women, Children, Youth and Sports with respect to:

a. Removing references to un-historical facts and distortions about our national heroes from the text books.

b. Ensuring equal or proportionate references to all periods of Indian history.

c. Highlighting the role of great historic women heroes, including Gargi, Maitreyi, or rulers like Rani of Jhansi, Rani Channamma, Chand Bibi, Zhalkari Bai etc. in school history books in India.

We place before the Committee certain observations and points of caution.

Textbook revisions: certain cautionary notes

It appears from the notification of the Parliamentary Standing Committee’s proceedings inviting responses that a consensus presumably exists on the presence of “distortions” in existing history school textbooks such as of the NCERT. On this point itself, we wish to draw the attention of the Hon’ble members to the fact that while scholarship grows and propels the corresponding need for periodic revision of textbooks; the use of the word “distortion”, as in this context, appears to be an unsubstantiated allegation that creates roadblocks for the initiation of a serious scholarly exercise. Opinions are being sought regarding “unhistorical facts and distortions about our national heroes” in the existing history textbooks without substantiation, which is unfortunate and also objectionable. 

Continue reading Concerned Historians Respond to Parliamentary Standing Committee on Education On History Textbooks

मार्क्सवाद : वीरान अमानवीय दूरियाँ

मुक्तिबोध शृंखला:27

मार्क्सवादी अर्थशास्त्री प्रभात पटनायक ने चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की शताब्दी के मौक़े पर उसकी सांसारिक उपलब्धियों को स्वीकार करते हुए भी उसे समाजवादी व्यवस्था मानने से इनकार किया है। उसका कारण उनके मुताबिक़ यह है कि चीन में व्यक्ति अभी भी पार्थक्यविहीन जीवन नहीं जी रहा है। चीन का जन आज भी खंडित जन ही है। यानी उसकी सर्जनात्मकता पर उसका अधिकार नहीं है। उसका समय उसका नहीं है। अपने वजूद का मालिक वह खुद नहीं है, उसकी पार्टी है। दूसरे शब्दों में, वह स्वतंत्र या स्वाधीन नहीं है। स्वाधीनता चीन में अपराध है और ख़तरनाक है। इस मत से अलग कुछ कम्युनिस्ट पार्टियों की समझ है कि चीन ने अपने क़िस्म का समाजवाद विकसित किया है।

60 साल पहले ‘वसुधा’ में चीन के साहित्य को लेकर गोरखनाथजी की आपत्ति का उत्तर मुक्तिबोध ने दिया था। उनकी आपत्ति यह थी कि चीन का साहित्य सौंदर्य पक्ष की उपेक्षा करता है। साथ ही उन्होंने मौलिकता और साहित्य की श्रेष्ठता का प्र्श्न भी उठाया था। समाजवादी मुल्कों में क्यों तोलस्तोय जैसे लेखक पैदा नहीं होते, यह सवाल भी था। इन 60 वर्षों में इन प्रश्नों पर काफ़ी बहस हो चुकी है। गोरखनाथ की शिकायत यह थी कि जन-मंगल की भावना से प्रेरित होते हुए भी साम्यवादी साहित्य कलाहीन है, श्रीहीन है, अनुभूति-प्रवण नहीं है। ’मार्क्सवादी साहित्य का सौंदर्य पक्ष’ शीर्षक इस निबंध में मुक्तिबोध ने कहा कि चीन की जनता मुक्ति के वातावरण में साँस ले रही है और अपने देश के पुनर्निर्माण में लगी है। वह अपना साहित्य भी तैयार कर रही है।

मुक्तिबोध यह भी  कहते हैं कि साम्यवादी संसार में सबसे विकसित साहित्य रूस का है, सो उदाहरण वहाँ से लेना चाहिए। लेकिन वे जिन ‘श्रेष्ठ’ लेखकों की सूची गोरखनाथ के आरोप को काटने के लिए पेश करते हैं, उनमें से ज़्यादातर सोवियत संघ की कम्युनिस्ट पार्टी के आधिकारिक रूप से स्वीकृत लेखक ही थे और ‘सकारात्मक’ लेखन करने के लिए वे तत्कालीन सत्ता के प्रिय पात्र थे। अब उस अवधि के बारे में बात करने पर मुक्तिबोध की सूची से एकाध नाम ही ठहर पाते हैं।

Continue reading मार्क्सवाद : वीरान अमानवीय दूरियाँ

Governments Must Implement the Constitution, Not Religious Texts

Several courts have tried to reign in states bent on holding religious events during the pandemic. Judiciary must more proactively prevent them as the third wave approaches.

Constituion of india

Simple things need retelling when society is in a state of flux. The fact that India is a republic—has been one for more than 70 years—where sovereignty rests with the people and not with scriptures is one fact. That India runs by its Constitution and laws under it is another fact.

The Uttarakhand High Court reminded the state government of these facts when it objected to proposals to live-stream the historic Char Dham Yatra on the plea that the scriptures do not sanction it. The court rejected the petition, saying India is a democracy where the rule of law, not religious texts, govern.

( Read the full text here)

घृणा का दैत्य और स्नेह का शुचि-कान्त मादक देवता

मुक्तिबोध शृंखला:26

पूँजीवाद से मुक्तिबोध की घृणा समझौताविहीन थी। क्या वे उसके कारण कम्युनिस्ट हुए या कम्युनिस्ट होने के कारण पूँजीवाद को उन्होंने अस्वीकार किया? यह प्रसिद्ध है कि नेमिचंद्र जैन ने उन्हें कम्युनिस्ट बनाया। 30 अक्टूबर 1945 के पात्र में वे नेमिजी को लिखते हैं,

याद है, आपकी बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। आपने एक व्यक्ति के साथ नाज़ुक खेल खेला है। उसे कम्युनिस्ट बनाया, दुर्धर्ष घृणा के उत्ताप से पीड़ित।”

सिर्फ घृणा नहीं, उस व्यक्ति यानी मुक्तिबोध को अधिक ‘सहनशील भावनामय’ भी बनाया। सहनशील भावनामयता या प्रेम और घृणा, दोनों ही एक साथ एक ही वक्ष में हैं। बल्कि एक के लिए दूसरी ज़रूरी है। ‘नूतन अहं’ शीर्षक कविता में आरम्भ ही इस प्रश्न से होता है;

Continue reading घृणा का दैत्य और स्नेह का शुचि-कान्त मादक देवता

An open letter demanding action on the online targeting of Muslim women

A statement signed by 900 individuals and groups

We, the undersigned women’s rights groups and concerned individuals are outraged by the reprehensible targeting of Muslim women on GitHub, a free web platform, where Twitter handles, and photographs of Muslim women were uploaded with the explicit aim of directing sexualised hate and harm at these women. More than 80 women were profiled, their images were sought to be “auctioned” by soliciting users to take their pick on the “deal of the day”, on the basis of their identity and for their views. This is a conspiracy to target women by creating a database of those Muslim women journalists, professionals and students who were actively raising a voice on social media against right wing Hindutva majoritarianism. The intention is to silence their political participation.

This attempt to de-humanise and sexualise Muslim women is a systemic act of intimidation and harm. This is not the first time this has happened. Before Eid, similar cyber violence against Muslim women was organized by stealing pictures of Pakistani women from their social media handles.

This is a targeted hate campaign against Muslim women in India and abroad amounts to sexual harassment, criminal intimidation, and cyber stalking. It violates their right to privacy, which is a travelling right, and it is an act of censorship. It puts their life and liberty at risk.

This is a targeted campaign to regulate their political speech and political participation in democracy as full and equal citizens of this country. It is part of the project to push Muslim women out of public spaces, offline and online, by causing them harm and censoring their speech. Having witnessed the leadership and power of Muslim women in the anti-citizenship amendment act (CAA) movement, right wing Hindutva men have used social media as a political tool to deny Muslim women their right to lead our collective fight for secularism, peace and citizenship. Continue reading An open letter demanding action on the online targeting of Muslim women

ईमान का डंडा, बुद्धि का बल्लम, अभय की गेती और हृदय की तगारी!

मुक्तिबोध शृंखला:25

‘नए की जन्म कुंडली: एक’ में लेखक या वाचक की मुलाकात अपने एक मित्र से 12 वर्ष बाद होती है। ऐसा मित्र जिसे वह बहुत बुद्धिमान समझता था। वह ऐसा व्यक्ति था जो अपने विचारों को अत्यधिक गम्भीरतापूर्वक लेता:

 “वे उसके लिए धूप और हवा जैसे स्वाभाविक प्राकृतिक तत्त्व थे।दरअसल, उसके लिए न वे विचार थे, न अनुभूति। वे उसके मानसिक भूगोल के पहाड़, चट्टान, खाइयाँ, ज़मीन, नदियाँ, झरने, जंगल और रेगिस्तान थे।

विचारों के साथ उस मित्र का रिश्ता सतही न था:

वह अपने विचारों या भावों को केवल प्रकट ही नहीं करता था, वह उन्हें स्पर्श करता था, सूँघता था, उनका आकार-प्रकार, रंग-रूप और गति बता सकता था, मानो उसके सामने वे प्रकट, साक्षात् और जीवंत हों। उसका दिमाग़ लोहे का एक शिकंजा था या सुनार की एक छोटी-सी चिमटी, जो बारीक-से बारीक और बड़ी से-बड़ी बात को सूक्ष्म रूप से और मज़बूती से पकड़कर सामने रख देती है।” 

चूँकि विचारों के साथ उसका ऐसा, जीवन-मरण के प्रश्न जैसा रिश्ता था, वह सामान्य व्यक्ति तो नहीं ही था। विचारों के साथ इस गंभीर रिश्ते के कारण उसका इस ज़माने में मिसफिट रहना भी तय था। जिस ज़माने में हर वस्तु की कीमत उपयोगिता के आधार पर तय की जाती है, वहाँ विचारों के साथ इस तरह के उत्कट रिश्ते की कीमत चुकानी पड़ती है। या रिश्ता आख़िरकार आपको क्या हासिल देगा? दुनियादारी सिखलाती है कि वैसे विचारों से मुँह मोड़ लें या उन्हें कहने भीतर दफन कर दें जो जीने के रास्ते में आ जाते हों! विचारों को जो अपनी रक्त-मज्जा का इस प्रकार अंग बना लें, उनकी ज़िंदगी तकलीफदेह होना तय है। वे खुद को जाहिर करते हैं तो किसी बाहरी वजह से नहीं, इसलिए नहीं कि उसका कोई इस्तेमाल हो जाए। और वे खुद को प्रकट करने से घबराते भी नहीं इस आशंका से कि कहीं उनका कोई नुकसान न हो जाए।

Continue reading ईमान का डंडा, बुद्धि का बल्लम, अभय की गेती और हृदय की तगारी!

पूँजीवाद : तू है मरण, तू है रिक्त, तू है व्यर्थ

मुक्तिबोध शृंखला : 24

मनुष्य इतना अकेला क्यों है? मनुष्यों में इतने फासले क्यों हैं? क्यों अमानवीय दूरियां हम सबको घेरे हुए हैं? या एक दूसरे से अलग किए हुए हैं? जीवन में इतना ओछापन क्यों हैं? सतहीपन, छिछलापन क्यों हैं? क्यों इंसान खुद को हासिल नहीं कर पाता? क्यों हम सब अपने बदले किसी और का जीवन जीते रहते हैं? क्यों अपना किया हुआ श्रम अकारथ लगता है? क्यों हर नई सुबह मन में स्फूर्ति नहीं जगती? क्यों हमेशा कुछ खो गए होने का अहसास दीमक की तरह मन को चाटता रहता है? हमारे चारों तरफ व्यक्तित्वों के खँडहर क्यों? ज़िंदगी क्यों ढहकर मलबा बन जाती है? क्यों हम आँख उठाकर अपने चारों तरफ जो कुदरत का नूर है, उसे देख नहीं पाते, उसमें डूब नहीं पाते? क्यों भव्यता, ऊँचाई का दर्शन करने में हमारी गर्दन दुखने लगती है? क्यों हम अपनी खोह में दुबके रहना चाहते हैं? जीवन के विस्तार का आभास हमें क्यों नहीं हो पाता?

यह तो सोचो कि वह कौन मैनेजर है जो हमें-तुम्हें, सबको रीछ-शेर-भालू-चीता-हाथी बनाये हुए है?”  

‘समझौता’ कहानी का अंत इस प्रश्न पर होता है। कहानी में एक दूसरे को खा जाने, एक दूसरे पर चढ़ बैठने का नाटक करने की कवायद कराई जाती है। यह नाटक है। लेकिन सच तो यह है कि हम ऐसी ज़िंदगी जीने को मजबूर हैं जिसमें हर कोई दूसरे को खा डालना चाहता है, वह उसका भोज्य है। हर पड़ोसी दूसरे पर निगाह रखता है, वह जासूस या खबरी है। किसी की तरक्की की शर्त किसी का और नीचे धँस जाना है?

Continue reading पूँजीवाद : तू है मरण, तू है रिक्त, तू है व्यर्थ

प्रभात के कपोलों को हृदय के दाह-चुंबन से लाल कर दूँगा मैं

मुक्तिबोध शृंखला:23

लिखना और पढ़ना मुक्तिबोध के साहित्य संसार में विशालता के स्पर्श का एक जरिया है। ‘आ-आकर कोमल समीर’ कविता के आरम्भ में ही एक टेबल पर झुका सर दिखलाई देता है जिसके उलझे बालों को समीर आ-आकर सहलाता रहता है। यह तूफ़ान नहीं है जो मुक्तिबोध की कविता के प्रचलित स्वभाव के लिहाज़ से स्वाभाविक होता, वह झकझोरता नहीं है। टेबल पर जो बैठा है, वह गंभीर काम में तल्लीन है। इसलिए समीर बहुत दुलार से उसके बालों को सहला रहा है। वह एक गंभीर काम में, जो मेहनत का काम है,लगा जो है। फिर कवि का कैमरा जिस टेबल पर सर झुका है, उसपर अपनी निगाह ले जाता है:

“विद्रूप अक्षरों की बाँकी-

टेढ़ी टाँगों के बल चलती,

स्याही के नीले धब्बों से जो रँगी हुई

पीले कागज़ की दुनिया है,”

यह पीले कागज़ पर लिखे जाते जो टेढ़े-मेढ़े अक्षरों की दुनिया है। किसी-किसी को वह सिर्फ धब्बों से रंगा पीला कागज़ दिखलाई पड़ सकता है। लेकिन है वह ज़िंदगी से धड़कता एक संसार। यह दुनिया बनती कैसे है? 

Continue reading प्रभात के कपोलों को हृदय के दाह-चुंबन से लाल कर दूँगा मैं

Stan Swamy’s Custodial Murder – Joining the Dots From Santhal Hul To the Pathalgadi Movement

Fr. Stanislaus Lourduswamy aka Stan Swamy, image by Sarah Modak, courtesy Article 14

There are just no words left to express the anger and helplessness that overcame hundreds and thousands of people like me when they heard of the custodial murder of an ailing, frail, octogenarian, Fr Stanislaus Lourduswamy, known to the world as Stan Swamy. The various issues that arise from the virtual judicial abdication of responsibility has been powerfully articulated by former Delhi High Court Chief Justice, AP Shah and one can hardly add to that. What is perhaps the most shocking is not that the judiciary abdicated in observing its duty of upholding the Constitutional rights of a citizen but that it seems to have lost even the minimum grace and human concern.

“Medical reports taken on record clearly showed that Fr Swamy had the degenerative Parkinson’s disease, and could not even do basic tasks, such as holding a spoon, writing, walking or bathing. Indeed, the court noted that he had a severe hearing problem, and was physically very weak. But even that did not move them. Every regular bail application that was filed by his lawyers was unequivocally rejected.” 

This is shocking beyond words – or used to be once upon a time. But as each day of this regime passes, our threshold of taking shock increases by leaps and bounds. Are we really surprized now, that while this was how they treated Stan Swamy, a goon who had just the other day openly called for mob violence and “shooting down anti-nationals” has now been promoted to the Central ministry?

Continue reading Stan Swamy’s Custodial Murder – Joining the Dots From Santhal Hul To the Pathalgadi Movement

How Might a Feminist Respond to a Collegial Mansplaining of Feminism? Anannya Dasgupta

Guest post by ANANNYA DASGUPTA

Scroll had recently featured the Foreword to a book, with the heading ‘What do allies write about when they write (poetry) about feminism?’ The descriptive tag read – Saikat Majumdar surveys a unique anthology in his Foreword to ‘Collegiality and Other Ballads’. What makes this anthology unique? Sometime in 2020, Shamayita Sen had circulated a call ‘seeking poems on feminist ideology’ from ‘non-women’. I remember thinking, surely the call will be revised; feminist allies must know that there is a problem with excluding women from a space meant to check the pulse of contemporary feminisms. Besides, who is non-woman enough to want to be a part of such a man-book? While the premise of the book was not revised, the category ‘non-woman’ has been. The title page of the anthology now reads: Collegiality and Other Ballads with a tag – feminist poetry by males and non-binary allies. The opening line of Majumdar’s Foreword adds to the uniqueness of this mostly male-only feminist anthology by attributing uniqueness to feminism itself: ‘Feminism is the name of a unique battle.’

Continue reading How Might a Feminist Respond to a Collegial Mansplaining of Feminism? Anannya Dasgupta

विराट की सौंदर्याभा के जल का स्पर्श!

मुक्तिबोध शृंखला:22

“… पहली कठिनाई यह है कि इस युग का संगीत टूट गया है और जिस निश्चिंतता के साथ लोग अब तक गाते और छंद बनाते आए थे, वह निश्चिंतता तेरे लिए नहीं है।

“…. भावों के तूफ़ान को बुद्धि की जंजीर से कसने की उमंग कोई छोटी उमंग नहीं है। तेरी कविता के भीतर जब भी तेरे दिमाग की चरमराहट सुनता हूँ, मुझे भासित होने लगता है, काव्य में एक नई लय उतर रही है, जो भावों के भीतर छिपकर चलनेवाले विचारों की लय है, जो कवि से एककार होकर उठनेवाले विचारों का संगीत है।

“… जब नीति और धर्म की मान्यताएँ सुदृढ़ होती हैं और लोगों  को उनके विषय में शंका नहीं रह जाती, तब साहित्य में क्लासिकल शैली का विकास होता है। … जब वायु असंतुष्ट और क्रान्ति आसन्न होती है, तब साहित्य की धारा रोमांटिक हो उठती है। … किन्तु तू जिस काल-देवता के अंक में बैठा है, उसकी सारी मान्यताएँ चंचल और विषण्ण हैं तथा उन्हें इस ज्ञान से भी काफी निराशा मिल चुकी है कि रोमांस की राह किसी भी निर्दिष्ट दिशा में जाने की राह नहीं है। … तू क्लासिकल बने तो मृत और रोमांटिक बने तो विक्षिप्त हो जाएगा। तेरी असली राह वही है जो तू अपनी अनुभूतियों से पीटकर तैयार कर रहा है।” (रामधारी सिंह दिनकर)

Continue reading विराट की सौंदर्याभा के जल का स्पर्श!

Salaam Father Stan Swamy! Warrior for the soul of India

Numb and wordless in grief, filled with rage against the murderous regime of the RSS, led by Modi and Shah, we raise our fists in salute to a gentle, inspiring man.

Here is the statement  Stan Swamy made on the eve of his arrest by the NIA, stating that false evidence had been planted on his computer.  That this had indeed been done on a large scale to arrest people in the Bhima Koregaon case was soon established by an independent digital forensics firm based in the USA.

This is a criminal regime and the Prime Minister and the Home Minister should stand trial for war crimes against the people of India.

The fight will continue!

Release all political prisoners!

हर-एक छाती में आत्मा अधीरा है

मुक्तिबोध शृंखला:21

जीवन में अनाह्लाद उत्पन्न होता है अगर हम उसे तत्त्व प्रणाली से बाँधने की कोशिश करें। सैद्धांतिक आत्मविश्वास एक प्रकार की ट्रेजेडी है क्योंकि वह जीवन की पेचीदगी के प्रति पूरी तरह लापरवाह होता है। वह अपने सिद्धांत की काट में जीवन को फिट करने की कोशिश करते हुए उसकी हत्या कर डालता है। जीवन जीने में ही आह्लाद है। कहीं किसी अंतिम बिंदु पर पहुँच जाने में नहीं। प्रसन्नता, हर्ष, उल्लास, खुशी सच्ची कब है? जब वह स्वार्थ से परे जलनेवाली, असंतोष की वह्नि हो। स्वार्थमय प्रसन्नता निश्चय ही निःस्वार्थ प्रसन्नता से हीन है।

मुक्तिबोध की कविता में हर्ष और आह्लाद के क्षणों की भरमार है। ‘हरे वृक्ष’ कविता में सहचर मित्रों-से हरे वृक्ष की हरी आग हृदय के तल को डँस लेती है और

इनके प्राकृत औदार्य-स्निग्ध

पत्तों-पत्तों  से

स्नेह-मुग्ध

चेतना

प्राण की उठी जाग।”

उदारता से स्निग्ध पत्तों से स्नेह-मुग्ध चेतना जगती है। विशेषण मुक्तिबोध को बहुत प्रिय हैं और उनकी भाषा में जो ऐन्द्रिकता और मांसलता है, वह उस कारण भी है। वह विशेषणों से समृद्ध है। हेमिंग्वे परिश्रमपूर्वक विशेषण रहित गद्य में उपन्यास लिखना चाहते थे। मुक्तिबोध का काम उनके बिना नहीं चलता।  उन विशेषणों से ही वे उन भावों की रचना कर पाते हैं जो नितांत, उत्कट रूप से मानवीय हैं।

Continue reading हर-एक छाती में आत्मा अधीरा है

अंगार-राग और मधु-आवाहन

मुक्तिबोध शृंखला: 20

मुक्तिबोध मृत्युशैय्या पर थे। उनके तरुण प्रशंसक मित्र उनका पहला काव्य संग्रह प्रकाशित करने की तैयारी कर रहे थे। मुक्तिबोध के जीवन काल में ही यह हो रहा था लेकिन वे उसे प्रकाशित देखनेवाले न थे। नाम क्या हो किताब का? अशोक वाजपेयी ने इस घड़ी का जिक्र कई बार अपने संस्मरणों में किया है। श्रीकांत वर्मा और उन्हें यह तय करना था। खुद मुक्तिबोध जो नाम चाहते थे, वह था ‘सहर्ष स्वीकारा है।’ अशोकजी ने लिखा है,

हमीदिया अस्पताल में मुक्तिबोध से जिस अनुबंध-पत्र पर दस्खत कराए थे, उसमें उनके पहले कविता संग्रह का शीर्षक था: सहर्ष स्वीकारा है। बाद में हमलोगों यानी नेमिजी, श्रीकांत वर्मा और मुझे लगा कि उनकी कविता में हर्ष और स्वीकार दोनों ही ज़्यादातर नहीं हैं, कोई और शीर्षक होना चाहिए। अंततः हम चाँद का मुँह टेढ़ा हैपर सहमत हुए।”

मुक्तिबोध इस पर कोई राय देने की हालत में न थे। कविता-संग्रह इसी नाम से छपा। मुक्तिबोध की मृत्यु के बाद दिल्ली में हुई गोष्ठी में अशोक वाजपेयी ने मुक्तिबोध पर अंग्रेज़ी में एक निबंध पढ़ा जो बाद में हिंदी में ‘भयानक खबर की कविता’ शीर्षक कविता से छपा। कविता संग्रह के इस शीर्षक ने और खुद मुक्तिबोध के अपने मित्रों ने मुक्तिबोध के बारे में एक धारणा बन जाने में जाने-अनजाने (?) मदद की: यह कि मुक्तिबोध भयावह, भयंकर, अस्वीकार, संघर्ष और क्रांति के कवि हैं।

Continue reading अंगार-राग और मधु-आवाहन

DISSENT, DEBATE, CREATE

%d bloggers like this: