Tag Archives: war on terror

A Guantanamo of the Intellect

 

Close on the heels of the axing by Calicut Uniersity of a poem from an English textbook, for the alleged ‘terrorist links’ of the poet, comes the news of cancellation of a scheduled lecture of Dr. Amina Wadud , a US based Islamic scholar by the authorities of the Madras University.

Calicut University succumbed  to the demand of the ‘Shiksha Bachao Andolan’ , one of the many outfits of the RSS pariva,r that the poem ‘ Ode to the Sea’ be removed from the textbook ‘ Literature and Contemporary Issues’ as its author Ibrahim al- Rubaish was a ‘terrorist’. It was also demanded that the persons responsible for the selection of the poem be identified to ‘uncover’ the network of the ‘sympathizers’ of terrorists in the board of studies and academic council of the university. Continue reading A Guantanamo of the Intellect

आतंकवादी कविता के विरुद्ध युद्ध: अपूर्वानंद

‘शिक्षा बचाओ आन्दोलन’ ने आतंकवाद के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय युद्ध में नई जीत हासिल की है. वह कालीकट विश्वविद्यालय के स्नातक स्तर की  अंग्रेज़ी की पाठ्यपुस्तक –‘लिटरेचर एंड कंटेम्पररी इश्यूज’ से ‘अल कायदा से जुड़े एक आतंकवादी’ इब्राहिम अल रुबाईश की कविता ‘ओड टू द सी’ को निकलवा देने में सफल रहा है.  आन्दोलन की केरल इकाई के सचिव ने इस कविता को पाठ्यपुस्तक में शामिल करने को ‘गंभीर मामला’ बताते हुए कहा था कि किताब को वापस लेने और विश्वविद्यालय द्वारा माफी माँगने के बाद इसकी जांच होनी चाहिए कि ‘बोर्ड ऑव स्ट्डीज़’ और अकेडमिक काउन्सिल’ में आतंकवादियों के समर्थक कौन हैं जिससे इस तरह की सामग्री के चुनाव के पीछे की साजिश का पर्दाफ़ाश हो सके.

कुलपति ने फौरन अपने डीन प्रोफ़ेसर एम.एम. बशीर को मामले की जांच करने को कहा. उन्होंने कहा कि ऊपर से निर्दोष लगने वाली इस  कविता में रुबाइश ने अत्यंत अर्थगर्भी प्रतीकों का इस्तेमाल किया है जो खतरनाक भी हो सकते हैं.मसलन, उसने ‘फेथलेस’ शब्द का प्रयोग किया है जो अरबी शब्द ‘काफिर’ का अंग्रेज़ी अनुवाद है. फिर जैसा आज का अकादमिक रिवाज है, वे इंटरनेट पर गए और पता किया कि इस कवि  ने अमरीका के खिलाफ जंग का आह्वान भी किया था. भला इसके बाद और सोचने की ज़रूरत ही क्या रह जाती है?पाठ्यपुस्तक के संपादकद्वय में से एक ने लगभग माफी माँगते हुए कहा कि डेढ़ साल पहले इसे संपादित करते वक्त रुबाइश के बारे में ज़्यादा सामग्री ‘ऑनलाइन’ मौजूद न थी. अगर उन्हें कवि के  राजनीतिक रुझान  का जरा भी अंदाज होता तो वे इसे कतई न चुनते. Continue reading आतंकवादी कविता के विरुद्ध युद्ध: अपूर्वानंद

Militant Rationalities: Ali Usman Qasmi

This is a guest post by ALI USMAN QASMI

Stark indifference of various religious organizations and scholars over suicide bombings and the recurrent target killing in Pakistan during the last few years is appalling. Woefully the mainstream print and electronic media deems it enough to issue the obligatory bland statements signifying absolutely nothing in condemnation of killings of innocent civilians. The act of terrorism in itself is relentlessly condoned, although the lost lives of civilians evoke some reaction which too is quite guarded to say the least. Even while expressing sympathy over the death of civilians,  the ‘atrocities’ of the Western powers in general and USA in particular are invariably referred to as the catalyst resulting in all the mess that the Pakistani people find themselves in, at the moment. Thus, unequivocal condemnation of those responsible for all the mayhem in the country is conspicuously missing, which amounts to a tacit approval of these terrorist acts. Far more tormenting than the devil may care attitude of religious parties and their leadership, is the role played by writers of the right wing persuasion, particularly in the Urdu media. While the mass appeal of the religious parties is considerably thin, nevertheless, right-wing ideology is widely shared and adhered to. Continue reading Militant Rationalities: Ali Usman Qasmi

पीर पराई जानै कौन?: कुलदीप कुमार

Guest post by KULDEEP KUMAR

अज्ञेय की प्रसिद्द कविता-पंक्तियाँ हैं:

“दुःख सबको मांजता है/
स्वयं चाहे मुक्ति देना वह न जाने/
किन्तु जिनको मांजता है/
उन्हें यह सीख देता है/
कि सबको मुक्त रखें.”
लेकिन दुःख की इस सीख पर क्या कोई अमल भी करता है? पुराना या आज का इतिहास तो इसकी गवाही नहीं देता. बल्कि देखने में तो यह आता है कि दुःख के भी खाने बन जाते हैं. हमें केवल अपना या अपनों का दुःख ही दुःख लगता है. पराई पीर जानने वाले वैष्णव हम नहीं हैं.

जबसे सुना है कि ओसामा बिन लादेन की ह्त्या उसकी दस-बारह साल की बेटी की आँखों के सामने हुई, तभी से विचलित हूँ. मुझे मालूम है कि आज जिस तरह की फिजा बन गयी है, उसमें यह कहना भी जोखिम से खाली नहीं है. मुझे ओसामा बिन लादेन के प्रति सहानुभूति रखने वाला घोषित किया जा सकता है. उसकी बेटी को तो पता भी नहीं होगा कि उसका बाप वाकई में क्या था. क्या उस बच्ची का दुःख इसलिए कम हो जाता है क्योंकि वह ओसामा की बेटी है? हम लोगों ने अपने लिए जिस तरह के तर्क गढ़ लिए हैं, उनके अनुसार तो इस बच्ची के दुःख के बारे में सोचना और बात करना भी आतंकवाद के प्रति सहानुभूति दिखाना होगा.

Continue reading पीर पराई जानै कौन?: कुलदीप कुमार

Osama and Obama: Or How Much Work Can One Death Do…

Yesterday Osama Bin Laden was killed in an operation by American troops in Abbottabad, Pakistan. Barack Obama addressed the American nation in a televised address at 11:30 P.M. at night. It is a curious address. You can watch it below.

Continue reading Osama and Obama: Or How Much Work Can One Death Do…

Jailing Journalists: Pradeep Jeganathan

This is a guest post by PRADEEP JEGANATHAN from Colombo.

The sentencing of J.S. Tissainayagam is deeply distressing.

While I’m neither a attorney, nor conversant with the details of the evidence presented by the prosecution, nor the text of the judgment delivered — and so can not comment on those areas, it seems clear that this judgment and sentence was only possible given the Prevention of Terrorism Act, of 1979. Two features stand out, given the PTA– the narrow bounds allowed for freedom of expression, on certain themes, and the admissibility of a ‘confession’ as ‘evidence,’ which is not allowable under the penal code. Taken together they make for a curtailing of freedom which is telling. There is an appeal pending, I understand, and there may be a possibility of a pardon, if that process is exhausted to no avail.

Continue reading Jailing Journalists: Pradeep Jeganathan