A Nation for Men: Kartik Maini

Guest Post by KARTIK MAINI

Members of the All Assam Photojournalist Association wear black sashes around their mouths to protest against the rape of a photo journalist by five men inside an abandoned textile mill in Mumbai, in the northeastern Indian city of Guwahati, Aug. 24, 2013. (Reuters)

Image courtesy VoA

Later this month, we are told, Textile Minister Smriti Irani will be celebrating the festival of Raksha Bandhan with soldiers in India’s highest, perhaps most brutal battleground: Siachen. As the armed forces begin to occupy a central motif in public discourse on patriotism and national honour; and dissent against the BJP gets overwhelmingly portrayed as national betrayal, honouring the supremely courageous men who protect their brothers and sisters on the nation-state’s fault lines is far from problematic. Indeed, in so far as the nation is performed through patriarchal violence, it is.

Employing the signifier of Raksha Bandhan as a promise of the nation’s cherished men to protect their sisters is not nearly as trivial as many consider – it captures the lived experience of nationalism, as also the phallocentric economy invariably implicit in the idea of nation.

Continue reading “A Nation for Men: Kartik Maini”

Congratulations on the Completion of Two Years of Government: Reaction of JNU student, Bihu Chamadia

Guest Post by BIHU CHAMADIA

Congratulations on the completion of two years of government. But I just want to ask a simple one line question. Completion of two years but at what cost? At the cost of increase in the number of farmer suicides, at the cost of creating war-like situations in educational institutions, at the cost of acting as a catalyst of widening the gap between hindu-muslim, at the cost of increasing imports and decreasing exports. Celebration on such a large scale because of course it is the first ever government in the history of the world to complete 2 years of governance ! With on-going crisis in the country BJP spends 1000 crores on a programme for this celebration. We would have no problem if this money was yours but sadly it’s not its ours. So now to all the tax payers who had problem with JNU raising its voice I ask you have you people become blind and deaf or are suffering from amnesia and forgot how to read and write.

Well, you speak well Mr Modi but the problem is that you only speak. You and your whole cabinet knows that each and every student of these educational institutes can give you people a befitting reply to all your one liners but we choose not to. People laugh at what your ministers says and say what a fool but I have a completely opposite view. You people are not fool you people are smart, very smart indeed.  Your every policy and every one liner can have a nice reply. Continue reading “Congratulations on the Completion of Two Years of Government: Reaction of JNU student, Bihu Chamadia”

JNU High Level Committee Delivers a Low Blow – Students Unjustly Rusticated, Fined, Declared ‘Out of Bounds’

So, the High Level Enquiry Committee at JNU, set up under the watch of Jagadish Kumar, the recently appointed Vice Chancellor, has just delivered a low blow. A summary of its decisions (taken from the Facebook Wall of JNUSU Vice President, Shehla Rashid) meted out as the consequences of the events of February 9 and after is as follows :

Umar Khalid, rusticated for one semester + 20K fine.

Anirban, rusticated till 15 July & from 25 July, out of bounds for 5 years.

Another Kashmiri student rusticated for two semesters.

Ashutosh, former JNUSU President, removed from hostel for one year + fine.

Chintu, former JNUSU Gen Sec: 20K fine

Rama, current JNUSU Gen Sec: 20K fine

Anant, former JNUSU Vice-President: 20K fine

Aishwarya, current GSCASH representative: 20K fine.

Gargi, current JNUSU councillor: 20 K fine

Shveta Raj, current SL & CS Convener: 20 K fine

Kanhaiyya, current JNUSU President: 10K fine

Other organisers fined from 10K to 20K

Two ex students declared out of bounds from campus.

This is an administration, which, in obedience to its backers in the Ministry of Human Resource Development and the Government of India, that knows only one way of dealing with the students in its charge – and that is a replica of the vindictive path that eventually drove Rohith Vemula to his institutionally mandated death in Hyderabad University.

This is an administration that invited police to intervene in what was essentially a dispute between groups of students, at the instigation of right wing thugs. Continue reading “JNU High Level Committee Delivers a Low Blow – Students Unjustly Rusticated, Fined, Declared ‘Out of Bounds’”

Statement by Concerned Faculty from The English and Foreign Languages University on the Police Crackdown at HCU

We, the concerned faculty from The English and Foreign Languages University, Hyderabad, strongly condemn the police brutality at the University of Hyderabad on 22nd March 2016, after the return of Prof. Appa Rao Podile, the Vice-Chancellor accused of abetting the suicide of the Dalit Research Scholar Rohith Vemula. As an academic community, we are extremely disturbed by the excessive interference of the state machinery, administrative conspiracies, the abuse of power and systemic oppression that prevail in many of the universities in India of late. A university should be a just and egalitarian space. But the suicides of Dalit students with the recent case of Rohith Vemula lay bare systemic structures of oppression and institutional legitimization of caste violence existing within Indian universities. Our university spaces need serious re-vamping to ensure equal opportunity, social justice and critical discourses. Continue reading “Statement by Concerned Faculty from The English and Foreign Languages University on the Police Crackdown at HCU”

जेनयू की सफाई पर स्मृति ईरानी की सफाई: नियति शर्मा

Guest post by NIYATI SHARMA

लोकसभा में स्मृति ईरानी जी की सफाई उर्फ़ भाषण बहुत भावुक, मनोरंजक और प्रभावशाली था। लोग उन्हें ‘आयरन लेडी’ का खिताब दे रहे हैं- यह उनके तर्क के लिए या उनके तेवर के लिए, या फिर उनके यह कहने के लिए की वो अपना सर काट के मायावती जी के चरणों में रख देंगी, पता लगाना थोड़ा मुश्किल है । सोचा था स्मृति जी कुछ सवालों का जवाब देंगी पर असल में मिली एक लम्बी, मेलोड्रामाटिक सफाई जिससे उन्होंने अपनी सरकार की सारी गलतियों पे पर्दा डाल दिया।ऐसी स्तिथि में हम मजबूर हो गए हैं की स्मृति जी से जो सवाल पूछे जाएँ वो तथ्य-सम्बंधित होने के साथ साथ अति भावनात्मक भी हों।

स्मृति जी के अभिनय के सारे सालों का अनुभव उनके भाषण में साफ़ दिखाए दिया। लोकसभा में स्मृति जी के हाव भाव से आक्रोश टपक रहा था पर क्या उन्हें इतना क्रोधित होने का हक़ है? स्मृति जी का यह मानना है की उनके ऊपर काफी बेबुनियादी आरोप लगे हैं, पर यह मामला स्मृति ईरानी जी के बारे में नहीं है, यह मामला उन मासूम छात्रों के बारे में है जिनकी ज़िन्दगी को उन्होंने दांव पर लगा दिया है। आखिर उन ‘बच्चों’ का क्या जिनके ऊपर उन्होंने और उनकी सरकार ने पिछले कुछ दिनों में अनगिनत आरोप लगाये हैं? स्मृति ईरानी जी तो मंत्री हैं, अगर आरोप लगे भी, तो उनकी ज़िन्दगी बर्बाद नहीं होगी, पर जिस क्रूरता से सरकार और मीडिया ने छात्रों का चरित्र-हनन किया, वह कभी भी इससे उभर नहीं पाएंगे। कन्हैया, उमर और अनिर्बान न ही मंत्री हैं जिनके पास कोई राजनैतिक सहारा है और न ही उनके परिवार इतने धनी हैं की वह अपना जीवन, अपनी इज़्ज़त पुननिर्मित कर पाएं। स्मृति जी, आप तो सिर्फ अपने बारे में सोच रही थीं की आप पर और आपकी परफॉरमेंस पर क्या क्या सवाल उठाये गए, क्या आपने एक बार भी सोचा की इन छात्रों के पास आगे ज़िन्दगी में सफाई देने का कोई मौका नहीं होगा? क्या आपने, माँ होने के नाते, यह सोचा की यह छात्र अब कभी भी साधारण जीवन नहीं जी पाएंगे?

Continue reading “जेनयू की सफाई पर स्मृति ईरानी की सफाई: नियति शर्मा”

स्मृति ईरानी को एक जे-एन-यू के छात्र की चिट्ठि: अनन्त प्रकाश नारायण

Guest Post by Anant Prakash Narayan

सेवा में,

श्रीमती स्मृति ईरानी जी

“राष्ट्रभक्त” मानव संसाधन विकास मंत्री,

भारत सरकार

संसद में दिए गए आपके भाषण को सुना. इससे पहले की मै अपनी बात रखूँ , यह स्पष्ट कर दूं की यह पत्र किसी “बच्चे” का किसी “ममतामयी” मंत्री के नाम नहीं है बल्कि यह पत्र एक खास विचारधारा की राजनीति करने वाले व्यक्ति का पत्र दूसरे राजनैतिक व्यक्ति को है. सबसे पहले मै यह स्पष्ट कर दूं कि मै किसी भी व्यक्ति की योग्यता का आकलन उसकी शैक्षणिक योग्यता के आधार पर नहीं करता हूँ बल्कि साफ़ साफ़ कहूं तो मै “योग्यता”(मेरिट) के पूरे कांसेप्ट को खारिज करता हूँ.

मानव संसाधन मंत्रालय का पद भार लेने के साथ ही यह अपेक्षा की जाती है कि आप इस देश के केंद्रीय विश्वविद्यालयों में उनकी ऑटोनोमी का सम्मान करते हुए उसके लिए उत्तरदायी होंगी. रोहित वेमुला के मामले में आपने क्या किया यह सबके सामने है कि किस तरह से वहाँ के प्रशासन पर आपने दबाव डाला जिसका नतीजा रोहित के institutional मर्डर के रूप में हमारे सामने आया. लेकिन मै इन सारी चीजो पर अभी बात नही करना चाहता. आप बार बार अपनी औरत होने की पहचान (आइडेंटिटी) को assert करतीं हैं और इसको करना भी चाहिए क्यूंकि नारी जाति उन ढेर सारे हाशिये पर किए गए लोगों में एक है जिनको सदियों से शोषित किया गया है. मै आपसे यह पूछना चाहता हूँ कि एक दलित स्त्री जो कि हर तकलीफ उठाते हुए अकेले अपने दम पर जब अपने बेटे बेटियों को इस समाज में एक सम्मानपूर्ण जगह देने के लिए संघर्ष कर रही थी तब एक नारी होने के कारण आप की क्या जिम्मेदारी बनती थी ? क्या आपको उस महिला के जज्बे को सलाम करते हुए उसकी बहादुरी के आगे सर झुकाते हुए उसके साथ नहीं खड़ा होना चाहिए था? हाँ, मै रोहित की माँ के बारे में बात कर रहा हूँ. जो महिला इस ब्रहामणवादी व पितृसत्तात्मक समाज से लड़ी जा रही थी, अपने बच्चों को अपने पहचान से जोड़ रही थी, उस महिला को आप व आपकी सरकार उसके पति की पहचान से क्यूँ जोड़ रहे थे? आपको भी अच्छा लगता होगा की आपकी अपनी एक स्वतंत्र पहचान है. लेकिन यह अधिकार आप उस महिला से क्यूँ छीन  रहीं थीं? क्या आप भी पितृसत्तात्मक व ब्रहामणवादी समाज के पक्ष में खड़ी होती हैं? अपना पूरा नाम बताते हुए अपनी जाति के बारे में आपने सवाल पूछा और आपका भाषण खत्म होने के पहले ही लोगों ने आपकी जाति निकाल दी. मै आपकी जाति के बारे में कोई दिलचस्पी नहीं रखता हूँ और मै यह बिलकुल नहीं मानता हूँ की अगर आप उच्च जाति के होते हैं तो आप जातिवादी ही होंगे लेकिन आपके विभाग/मंत्रालय के तरफ से जो चिट्ठियाँ लिखी गई उसमे रोहित और उसके साथियों को जातिवादी /caste-ist बताया. मैडम क्या आप caste-ism और  caste assertion का अन्तर समझती हैं? मै समझता हूँ की आप ये अन्तर भली – भाँति समझती हैं क्यूंकि आर एस एस जो आपकी सरकार और मंत्रालय को चलाता है, वह वर्ण व्यवस्था के नाम पर जाति व्यस्वस्था को भारतीय समाज की आत्मा समझता है और आर-एस-एस के एजेंडे को लागू करवाने की राजनैतिक दृढ़ता हमने समय समय पर आप में देखी हैं.

Continue reading “स्मृति ईरानी को एक जे-एन-यू के छात्र की चिट्ठि: अनन्त प्रकाश नारायण”

Confront the Rupa Subramanyas Within : A Note to a Nair-born Friend

Dear Kaviraj,

Just saw your post condemning The Telegraph’s representation of Smriti Irani as ‘Aunty’. I understand your indignation, though I am curious to know why few people like us stand up and protest when the people who supporte her, the sanghis, throw vile abuse at dissenters and feminists, label them prostitutes, and threaten them regularly with rape and disfigurement. My daughter was recently threatened in Delhi and warned not to behave like a ‘JNU randi’; senior women teachers from JNU were showered with similar abuse, shoved, groped, and hit at the Patiala House, and many of them have received direct and indirect threats. JNU women have been portrayed in the most despicable terms recently, before which Telegraphs’s characterisation of Irani as ‘Aunty’ is tame indeed even if unacceptable.

Continue reading “Confront the Rupa Subramanyas Within : A Note to a Nair-born Friend”