Tag Archives: Hurriyat

The Murky Fourth Estate: Asifa Zunaidha

This is a guest post by ASIFA ZUNAIDHA.

[Some time ago, I wrote on Kafila about my experience of attending a televised interaction with HRD Minister Smriti Irani. The audience, packed with supporters of the particular party Irani belongs to, was set up in that debate as the neutral ‘public’, thereby killing two birds with one stone – boosting the popularity of the Minister on news media, and legitimising the news channel as a site of punchy political debate. We have below a similar case of manipulation of the powerful medium of electronic news media, this time by another channel.] 

What is the role of the news media in a society if not to disseminate information and opinions as an impartial media(tor)? ‘Half truth is no truth’ is a popular aphorism, but ‘selective’ truth is also a lie and certainly does not befit the content of a news channel. It seems that in an age of corporate media, one would be foolish to expect impartial truths, let alone ‘undiluted or uncensored’ opinion of diverse groups. A recent episode inside the JNU campus shows how ‘news’ presented by News Channels can be easily manipulated and the opinion of a ‘select few’ is showcased as the ‘unanimous opinion’ emerging from the premier higher educational institute of the country.

Continue reading The Murky Fourth Estate: Asifa Zunaidha

राष्ट्रवाद का मौसम

मेरठ के एक निजी विश्वविद्यालय में भारत-पाकिस्तान के बीच हुए क्रिकेट मैच में पाकिस्तान की जीत पर कश्मीरी छात्रों की खुशी जाहिर करने पर स्थानीय छात्रों द्वारा उनकी पिटाई और तोड़-फोड़ के बाद तीन दिनों के लिए छियासठ छात्रों के  निलंबन (निष्कासन नहीं) और फिर ‘उनकी हिफाजत के लिए’ उन्हें उनके घर भेजने के विश्वविद्यालय के फैसले के बाद उन छात्रों पर राष्ट्रद्रोह की धाराएं लगाने से लेकर उन्हें वापस लेने तक और उसके बाद भी जो प्रतिक्रियाएं हुई हैं,वे राष्ट्रवादी नज़रिए मात्र की उपयोगिता को समझने के लिहाज से काफी शिक्षाप्रद हैं.आज यह खबर आई है कि ग्रेटर नॉएडा के शारदा विश्विद्यालय में भी छह छात्रों को छात्रावास से ऐसी ही घटना के बाद निकाल दिया गया है जिनमें चार कश्मीरी हैं. मामला इतना ठंडा क्यों है, ऐसी निराशा जाहिर करते हुए फेसबुक पर टिप्पणी की गयी है और उसके बाद तनाव बढ़ गया है.

रोशोमन नियम के अनुसार घटना के एकाधिक वर्णन आ गए हैं और तय करना मुश्किल है कि इनमें से कौन सा तथ्यपरक है. स्थानीय (राष्ट्रीय या राष्ट्रवादी?) तथ्य यह है कि पाकिस्तानी खिलाड़ियों के प्रदर्शन और फिर उस टीम की जीत पर कश्मीरी छात्रों ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए जिससे  भारतीय टीम की हार से पहले से ही दुखी स्थानीय छात्रों में रोष फैल गया. निलंबित कश्मीरी छात्रों का कहना है कि वे हर उस खिलाड़ी के प्रदर्शन पर ताली बजा रहे थे जो अच्छा खेल रहा था. बेहतर टीम पकिस्तान के जीतने पर उनका खुशी जाहिर करना कहीं से राष्ट्रविरोधी नहीं कहा जा सकता. उनके मुताबिक  इसके बाद उन्हें पीटा गया और तोड़-फोड़ की गई. Continue reading राष्ट्रवाद का मौसम

Oranges in Kashmir

Guest post by K

In the summer of 2008, something impossible happened. To a number of Indians, Kashmir was no longer an atoot ung, an inseparable part of the Indian body politic. That image of Kashmir treacherously manufactured by the Indian state through lies, deceit and the media, was wearing down.

The atoot ung no longer seemed atoot to many voices in India and against all odds the people of Kashmir were changing many hearts and minds in India. The loss of soldiers does not worry India as much as the change in its public opinion on Kashmir. This had to be undone, and undone fast before it spread its tentacles. The evil image of Kashmiris had to emphasized and the  non-violent protests discredited. What better than an election to do the task?

So the results will be out tomorrow, but do they matter? Continue reading Oranges in Kashmir