Tag Archives: midday meals

मुकदमा क्या सिर्फ मीना कुमारी पर चले ?: अपूर्वानंद

मीना कुमारी पुलिस हिरासत में हैं.उन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 और 120 के तहत मामला दर्ज किया गया है. यानी उन पर छपरा के गंडामन गाँव के नवसृजित प्राथमिक विद्यालय में पढने वाले तेईस बच्चों की ,जो स्कूल का मध्याह्न भोजन खाने के बाद मारे गए, इरादतन ह्त्या और उनकी ह्त्या के लिए आपराधिक षड्यंत्र का आरोप है.उन पर मुकदमा चलने और साक्ष्यों के स्थापित होने के  पहले ही बिहार के मुख्यमंत्री ने अपने दल के कार्यकर्ताओं के समक्ष शिक्षा मंत्री के षड्यंत्र के सिद्धांत को दुहराया है. आज , जब मैं जनसत्ता में छपी अपनी टिप्पणी को देख रहा हूँ, मुख्यमंत्री ने इसे दुर्घटना मानने से इनकार किया है. लेकिन वे इसे बाहरी साजिश का नतीजा मानते हैं. पहले ही इशारे किए जा चुके हैं. मीना कुमारी के पति के राष्ट्रीय जनता दल से सम्बन्ध की बात बार-बार कही जा रही है. कहा जा रहा है कि दुर्घटना वाले दिन वह स्कूल आया था और यह भी कि भोजन सामग्री की खरीदारी वही किया करता था. पहले यह खबर लगातार चलाई गई कि भोजन-सामग्री उसकी दुकान से खरीदी जाती थी. सच यह है कि उसकी कोई दुकान नहीं है. यह भी कोई  नहीं पूछ रहा कि आखिर मीना कुमारी का पति  सामान न खरीदता तो और कौन था यह काम करने वाला? क्या यह काम भी मीना कुमारी को ही करना चाहिए था?

मीना कुमारी की तस्वीर खलनायिका की बन चुकी है: रसोई बनाने वाली के संदेह के बावजूद  खाना उसी तेल में बनाने और फिर बच्चों की हिचक के बाद भी उन्हें खाने को मजबूर करने वाली औरत हत्यारी नहीं तो और क्या हो सकती है! Continue reading मुकदमा क्या सिर्फ मीना कुमारी पर चले ?: अपूर्वानंद

The buck should not stop with Meena Kumari

Let us recount some facts to understand the circumstances that led to the death of 23 children at a primary school at Gandaman, Chapra . First, some micro-facts :

  • The primary school struck by the  tragedy  is  a NAV SRJIT VIDYALAYA, a  newly created school. In fact, it is a break away from an earlier existing middle school   in the village.
  • This school, if you care to call it by this name, is a single room structure  with a floor full of potholes.
  • There is neither a kitchen nor a   facility to store the raw food-items in the school.
  • There is no source of clean drinking water in the school. There is a hand pump there but you get hard water from it.
  • Meena Kumari was NOT the headmistress of the school . She was only the teacher –in-charge of the school.
  • The school has two women teachers including Meena Kumari. The other one was on maternity leave  at the time of the incident. Meena Kumari was the only teacher left to look after more than 60 children, from class one to five who study there , a duty which includes teaching, supervising Mid-Day Meal (MDM) and other administrative duties. Continue reading The buck should not stop with Meena Kumari

Children of Kollegal: Blassy Boben

This is a guest post by BLASSY BOBEN

Loud voices singing the alphabet ring clear through the otherwise silent morning at Ardhanaripura. Bright eyed children assemble themselves in the school’s only classroom, chattering excitedly while waiting for their teacher to arrive. The school compound is alive with the laughter of the children. The only other sound in the village is that of the wind blowing through the locked, empty houses.

1298953987071-government school kids

Children at a school in another village of Kollegal district lining up for the midday meal (Image by  Junaid A Tagala)

As is the case in most villages in the taluk, the only residents of Ardhanaripura in Kollegal district of Karnataka are the aged and the very young, as all able bodied persons go out of the villages in search of work. Continue reading Children of Kollegal: Blassy Boben