Tag Archives: #StandwithJNU

2 Weeks No #JusticeForNajeeb – A Few Thoughts on Yesterday’s March and the Way Forward: Shehla Rashid

Guest Post by Shehla Rashid.

Video and Photo Inputs from Naushad MK, Samim Asgor Ali and Amit Kumar

[ This post was written shortly after JNU students gathered in front of Vasant Vihar Police Station to articulate their concern and anger at the lax attitude taken so far by the Delhi Police and other concerned authorities in relation to the disappearance of Najeeb Ahmed almost two weeks ago. In this text, (originally uploaded as a note on Facebook and then sent to us to be posted at Kafila) Shehla Rashid, thinks aloud about what has happened so far and looks ahead at the possible way forward for the students of JNU and their supporters to focus on making sure that Najeeb Ahmed, wherever he is, returns safe and sound to the JNU campus. We hope that it will be widely read, and discussed to evolve strategies for the evolving future of the campaign to give justice to Najeeb. Kafila]

Shehla Rashid and Others Being Confronted by Delhi Police at the Vasant Vihar Chakka Jam on Oc. 26, 2016

 

First of all, I’d like to express my gratitude to all the students who joined the Chakka Jam at Vasant Vihar police station, where the ACP refused to even accept the paper with our demands and, instead, ordered a lathi-charge on us. Students marched as one and stayed together till the end, despite all differences, for one goal- justice for Najeeb, and his safe return to campus life. I salute this spirit of JNU students. Having said that, I must say that we need to do more. Students need to come out in even greater numbers, as the attack on us is of immense magnitude.

Continue reading 2 Weeks No #JusticeForNajeeb – A Few Thoughts on Yesterday’s March and the Way Forward: Shehla Rashid

The RSS war on thought and ABVP as foot soldiers

Ever since the present Modi government came to power, there appears to have been a clear set of orders issued from the Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) headquarters to its student organization, the Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad (ABVP), to go on the rampage in university campuses all over India. From getting specific parts of syllabuses changed under threat of violence, disrupting events by other student organizations on campuses, to forcing university administrations to intervene to curb freedom of expression, to filing police complaints against dissenters, they seem to have been acting according to a well rehearsed script, subverting democratic processes on campuses. After its recent electoral defeats in JNU and Hyderabad Central University (HCU), however, the ABVP’s role seems to have acquired an even more virulent feature. The game plan appears to be to provoke violence wherever possible so that rather than any kind of debate, however contentious, on issues such as nationalism, minority rights and caste injustice, what we are increasingly likely to see are violent standoffs between student groups, which have to be controlled by the police. These are often represented in the media as brawls between students, as if there were no ideology or political content involved, just two groups of students “clashing.” But of course, in each case ABVP is involved, and in some kinds of reporting it can even be made to appear that ABVP was somehow the victim.

This is the moment at which teachers need to finally accept that ABVP is not just another student organization. We have tended to take the position in our universities that we must not condemn or directly address ABVP, since we must not directly involve ourselves in student politics. Teachers must talk to administration, be publicly critical of its lapses, take all measures necessary to display and enact our solidarity with students under attack by this regime. While students take their own decisions on modes of struggle and so on, teachers see our role as supportive but with a critical distance.

However, now we may need to start thinking of ways in which we  recognize the organization of the ABVP as a serious threat to Indian democracy. I don’t mean individual students, who would also be in our class-rooms, and with whom it may still be possible to continue a conversation, and whose examinations we will continue to grade with utmost probity. as we have always done.

But the ABVP as an organization has a specific role to play, as storm-troopers in the project of Hindu nationalism, and we cannot afford any longer not to face up to this fact frontally.

Continue reading The RSS war on thought and ABVP as foot soldiers

Resist the Modi Regime’s Assault on Students, Reject the Subramaniam Panel Report on Student Politics: Shehla Rashid

Guest Post by Shehla Rashid

When politics decides your future, decide what your politics should be !

Shehla Rashid (AISA), Vice President JNUSU, speaks at a student protest, during the 'Occupy UGC' Movement
Shehla Rashid (AISA), Vice President JNUSU, speaks at a student protest, during the ‘Occupy UGC’ Movement

The recent government constituted panel‘s (headed by former cabinet secretary T.S.R. Subramaniam) report on student politics is unconstitutional, highly regressive and politically motivated, and signals the upcoming onslaught of total commercialisation of education and imposition of Hindutva ideology in universities. The TSR Subramaniam Panel’s report is the logical follow up to the Birla Ambani report (which was submitted in 2000), following which student unions across the country were banned. The Birla Ambani report had lamented that student unions are not allowing commercialisation of education: we accept the charge and take pride in it! We believe that education should be a right of everyone, not a privilege of a handful of people.

Continue reading Resist the Modi Regime’s Assault on Students, Reject the Subramaniam Panel Report on Student Politics: Shehla Rashid

Open Letter to JNU VC from a JNU Professor: Rajat Datta

Guest Post by RAJAT DATTA

Dear Professor Jagadesh Kumar,

I read your long interview in the Pioneer of 6th June 2016 with great interest, particularly because of the way in which you’ve outlined your vision for JNU over the next five years. We’d been hearing a lot of whispers about your `vision’ all these months, and I’m happy that I’ve finally got to see it in print. Unfortunately, some of the issues you’ve raised have made me somewhat uncomfortable, and thus I feel constrained to write this open letter to you to share some of these concerns. Please don’t take it amiss, for what I have to say emerges from being a very senior faculty member of the university and from your assurance that you work in `consultation’ with senior faculty members.

My first area of unease is precisely this proclamation. I don’t recall a single instance where you tried to consult me, or any of the senior faculty members that I know (and believe me, I know most of them). You’ve not bothered to visit my Centre, the largest in the University in terms of the faculty and student numbers, to interact and `consult’ with us. If by `consultation’ you mean your meetings with Deans over policy issues, there is nothing new in what you’re doing. All Vice-Chancellors in JNU have done that, and more. Indeed, you have omitted Chairpersons entirely from these processes. If your consultation process is so pervasive, why did so many `senior’ and not so senior members of the JNU faculty sit on a relay hunger strike against your administration over eight days in May? I regret to say that the consultation process that you talk about so proudly is seen by many as a very closed coterie of people (whom you proudly refer to as your `team’). Is it because you haven’t been able to win the trust of the larger academic community of this university? On their own initiative, different groups of teachers have met you (when permitted to) and other members of your “team” when you have been unavailable to meet them, over various issues, and emerged from these meetings feeling that you do not listen to us. Continue reading Open Letter to JNU VC from a JNU Professor: Rajat Datta

Run Jaggu Run — The JNU VC Runs Away from the Academic Council Meeting

The 10th of May, the 13th Day of the Hunger Strike by JNU Students in protest against the HLEC Report was also the day scheduled for a meeting of the Academic Council of JNU. Students and faculty had resolved to stage a massive protest. Student and Faculty members of the Academic Council had also resolved to forcefully present issues related to the current crisis in the university at the AC Meeting. The events of the day are presented here through a series of videos and photographs uploaded by different people from JNU.

[ Video by Samim Asgor Ali, taken from his Youtube Channel ]

They tell the story of how students were generous with their tormentor, the VC, Jagadeesh Kumar, and how he ran away.

One day, his backers, Smriti Irani, Rajnath Singh and even Narendra Modi, and all the goons in the RSS headquarters at Mahal, Nagpur and Jhandewalan, Delhi will have to run for cover in a similar fashion when faced with the ‘gift’ of the fruits of their actions.

Photo by Samim Asgor Ali
Photo by Samim Asgor Ali

The students gathered on hunger strike collected their meals from their hotel messes and placed them in front of the AC meeting venue as a ‘gift’ to the Vice Chancellor, JNU and the university administration. Continue reading Run Jaggu Run — The JNU VC Runs Away from the Academic Council Meeting

रोहित वेमुला हम तुम्हारे दिखाए हुए रास्ते पर चल रहे हैं: अनन्त प्रकाश नारायण

अतिथि पोस्ट : अनन्त प्रकाश नारायण

12232699_240984726266767_438392505759428328_o

भूख हड़ताल का बारहवां दिन (12th Days) चल रहा है. प्रशासन कितना दवाब में है कुछ भी कहा नही जा सकता है. हाँ, अगल बगल के हालात देख कर, बात-चीत सुन कर इतना तो जरुर समझ में आ रहा है कि कुछ तो “अन्दर” जरुर चल रहा है. अध्यापक संघ हमारे साथ खड़ा है. उन्होंने हमारे समर्थन में एक दिन का भूख हड़ताल भी किया और अब क्रमिक भूख हड़ताल पर है. हमसे हमारे शुभचिंतको द्वारा बार बार आग्रह किया जा रहा है कि हम भूख हड़ताल को छोड़े. हम जब इस भूख हड़ताल पर बैठ रहे थे तो हमारे सामने की स्थिति ने हमे चेता दिया था कि ये करो या मरो की स्थिति है. इसलिए हमने नारा/स्लोगन भी दिया कि ये भूख हड़ताल हमारी मांगो तक या फिर हमारी मौत तक. हमारी मांग बिलकुल स्पष्ट है कि हम अलोकतांत्रिक, जातिवादी उच्चस्तरीय जांच कमिटी को नहीं मानते है. इसलिए इसके आधार पर हम कुछ छात्र-छात्राओ पर जो आरोप व दंड लगाये गए है उनको ख़ारिज किया जाये और प्रशासन बदले की भावना से इन छात्र-छात्राओ पर कार्यवाही करना बंद करे और जे.एन.यू. के एडमिशन पालिसी को लेकर कुछ मांगे है. सजा क्या है? कुछ का विश्वविद्यालय से निष्कासन, कुछ का हॉस्टल-निष्कासन और कुछ लोगों पर भारी जुर्माने की राशि और कुछ लोगों के उपर यह सब कुछ. अब जब हम आन्दोलन में है तो यह साफ़ साफ़ देख पा रहे है कि यही तो हुआ था हैदराबाद के साथियों के साथ. एक एक चीज हू-ब-हू बिलकुल इसी तरह. इसी तरह से हॉस्टल से निकल कर सड़क पर रहने के लिए विवश किया गया था. इसी तरह तो कोशिश की गई थी रोहित और उसके साथियों को देश और दुनिया के सामने एंटी-नेशनल के तमगे से नवाज देने की. नतीजा क्या हुआ सबके सामने है.

इस भूख हड़ताल के दौरान लोग हमसे मिलने आ रहे है. कुछ लोगों ने जुर्माने की राशि को जुटाने का प्रस्ताव दिया, तो कुछ लोगों ने खुद ही जुर्माने की राशि देने का प्रस्ताव दिया. हम उनके प्रति अपना आभार प्रकट करते हैं. लेकिन क्या यह लड़ाई कुछ दंण्ड/जुर्माने के खिलाफ लड़ाई है? नहीं, यह लड़ाई देश बचने की लड़ाई है. बहुत ही सरल शब्दों में कहा जाये तो इस लड़ाई से यह तय होगा कि इस सत्ता/सरकार के रहते इस देश में विरोध की आवाजो/dissents के लिए कोई जगह होगी की नहीं. जे.एन.यू का प्रोग्रेसिव स्टूडेंट मूवमेंट अपने क्रांतिकारी कलेवर के साथ अपनी पहचान लिए खड़ा रहता है. यह क्रांतिकारी स्टूडेंट मूवमेंट यह तय तो करता ही है कि इस कैंपस  को इतना समावेसित/इंक्लूसिव बना कर रखा जाये कि समाज के सबसे निचले तबके के लिए भी यह विश्वविद्यालय का गेट खुला रहे लेकिन साथ ही साथ इस छात्र-आन्दोलन ने अन्दर और बाहर के मुद्दे का भी भेद मिटा दिया और देश के सामने एक वैकल्पिक राजनीति का मॉडल ले करके सामने आया.

बीते दिनों इस स्टूडेंट-मूवमेंट के साथ साथ पूरे जे.एन.यू को निशाने पर लिया गया और इसे एक संस्थान के रूप में देश-विरोधी ठहरा देने का प्रयास हुआ. आखिर देश है क्या? आखिर हम देशभक्ति माने किसे? अभी कुछ दिनों पहले हम देश की विभिन्न जगहों पर कैम्पेन में थे. उन सभाओ व परिचर्चाओ के दौरान भी देशभक्ति चर्चा का एक गर्म विषय रहा. उन सवालों को करने वाले लोग ही कई बार इन सवालो का जवाब दे देते. वो भारत का नक्शा दिखा कर के और भारत की सीमाओं को दिखाते हुए बोलते इन सीमाओं के भीतर जो कुछ भी है देश है. इसका मतलब पेड़-पौधे, रेलगाड़ी, प्लेटफार्म, पहाड़, जंगल, कारखाने, यहाँ के लोग, खनिज-संपदा, नदियाँ, तालाब, इत्यादि सब कुछ देश है. इस दौरान मुझे अपवादिक रूप से भी कोई ऐसा व्यक्ति नहीं मिला जिसने देश की इस परिभाषा से असहमति जताई. देश के लिए प्रतीक बने, संविधान बना, कानून बने और जैसे-जैसे यह देश बदलता जाता है, आगे बढ़ता जाता है, उसी के आधार पर प्रतीक से ले करके कानून तक सब चीज़ों में परिवर्तन होता जाता  है. देश के लिए प्रतीक होते हैं, प्रतीकों का कोई देश नहीं होता है. देश लगातार चलने वाली एक प्रक्रिया का हिस्सा है. देश रोज़ बनता है और हमेशा नये ढंग में हमारे सामने आता रहता है, जिसे इस देश का गरीब, किसान, मजदूर और बाकी मेहनतकश लोग बनाते है. अब लड़ाई इस बात की है कि यह देश किसका है? और इसका मालिक कौन होगा? इस देश की संपत्ति, संसाधनों पर हक किसका होगा? यही गरीब, मजदूर, किसान और मेहनतकश लोग जो रोज़ इस देश को बनाते है, जब अपने हक के लिए खडे होते है तो इस देश की सत्ता/सरकार चंद पूंजीपतियों के साथ क्यूँ खड़ी हो जाती है? और इस देश को बनाने वालों के हक में जब जे.एन.यू. जैसे संस्थान आवाज़ उठाते हैं तो उसे देशद्रोही करार देने की कोशिश क्यों होती है?

जिस समय जे.एन.यू. का मसला ही पूरे देश में चर्चा का विषय बना रहा उस समय जे.एन.यू. प्रशासन व इस देश की सत्ता ने बड़ी चालाकी से अपने मंसूबों को पूरा करने में इस समय का इस्तेमाल किया. यह सर्वविदित है कि  जे.एन.यू. अपनी एडमिशन पालिसी  के कारण ही अपना एक इनक्लूसिव/समावेशिक कैरेक्टर बना पाया है. लगभग 24 साल से चली आ रही इस पालिसी को प्रशासन ने बदल दिया और स्टूडेंट कम्युनिटी को कुछ खबर तक नहीं हुई. दूसरा, ओबीसी के मिनिमम एलिजिबिलिटी कट ऑफ, जिसको चार साल (4 years) के लम्बे संघर्ष के बाद सुप्रीम कोर्ट तक जा करके इस जे.एन.यू. प्रशासन के खिलाफ जीत कर लाया गया था और इसे सिर्फ जे.एन.यू. नही पूरे देश के संस्थानों के लिए अनिवार्य किया गया था, उसको ख़त्म कर दिया गया और किसी को कानो-कान खबर नहीं हुई. इसी तर्ज पर दूसरी तरफ सत्ता में बैठे लोगों ने इस समय का फायदा विजय माल्या को इस देश के बाहर भेजने के लिए इस्तेमाल किया. ये सत्ता/सरकार की बहुत ही पुरानी तरकीब रही है कि अगर देश की कुछ रियल समस्याएँ हैं तो उसकी तरफ से ध्यान भटकाने के लिए कुछ ऐसा करो कि इस देश के लोगों का ध्यान उधर जाए ही ना. इस सरकार के 2 साल बीत जाने के बाद इनके पास ऐसा कुछ भी नहीं है जो इस देश के लोगों के सामने गिना सके कि हमने क्या किया. ये चुनाव पर चुनाव हारते जा रहे हैं. तब इन्होने इस देश के लोगों का ध्यान उनकी विफलता से हटाने के लिए जे.एन.यू. “काण्ड” को गढ़ा. इस साजिश को साफ़ साफ़ समझा जा सकता है कि जब जे.एन.यू. का आन्दोलन चल रहा था उस समय भाजपा अध्यक्ष ने घोषणा की कि वह इस मामले को लेकर के यू.पी. के घर-घर में जाएंगे. यूपी के घर घर ही क्यूँ? क्यूंकि वहाँ चुनाव आने वाले हैं. धूमिल ने सत्ता/सरकार के इसी साजिश की ओर इशारा करते हुए हमे सावधान किया और लिखा कि

चंद चालाक लोगों ने

जिनकी नरभक्षी जीभ ने

पसीने का स्वाद चख लिया है,

बहस के लिए भूख की जगह भाषा को रख दिया है….

अगर धूमिल की इसी बात को और आगे बढाते हुए कहा जाए तो आज भूख की जगह प्रतीकों/सिम्बल्स/नारों को रखने की कोशिश चल रही है. यानि हमारे जीवन की रियल समस्याओ से ध्यान हटा देने की हर बार की तरह एक कोशिश, एक साजिश .

जे.एन.यू. में जब ये आन्दोलन चल रहा है तब इस आन्दोलन को लेकर तरह तरह की शंकाए/भय, जो कि बहुत  हद तक जायज़ भी है, ज़ाहिर किये जा रहे हैं. हमको यह कहा जा रहा है की इस प्रशासन से हमें कोई उम्मीद नहीं रखनी चाहिए. हम इस बात से पूरी तरह सहमत हैं कि हमें इस प्रशासन से कोई उम्मीद नहीं रखनी चाहिए. तब इस स्थिति में हमें क्या करना चाहिए? हमारे सामने क्या रास्ता है? हमारे ऊपर जो दंडात्मक कार्यवाहियां हुई है, उनको मान लेना चाहिये? हमारा यह साफ़ साफ़ मानना है कि ये दंडात्मक कार्यवाहियां हमारे उपर एक विचारधारात्मक कार्यवाही (ideological punishment) है. भले ही यह कार्यवाही कुछ छात्र-छात्राओं पर की गयी है लेकिन इसका निशाना पूरा जे.एन.यू. ही है. इसका कारण स्पष्ट है कि जे.एन.यू. साम्प्रदायिकता व साम्राज्यवाद विरोधी होने के कारण हमेशा से सत्ता के निशाने पर रहा है. यहाँ पर समाज के हर तबके की आवाज़ के लिए एक जगह है और इतना ही काफी है आरएसएस के लिए कि वह जे.एन.यू. विरोधी हो. जेएनयू के छात्र आन्दोलन की विशेषता है कि यह कैम्पस के मुद्दों को उठाने के साथ साथ देश दुनिया में चल रही प्रत्येक चीज़ पर सजग रहता है, और ज़रूरत पड़ने पर हस्तक्षेप भी करता है और इसी का परिणाम है कि इस सरकार के सत्ता में आने से पहले और बाद में हमेशा से जब भी इन्होने इस देश के लोगों के खिलाफ कदम उठाएं हैं तब-तब इन्हें यहाँ के छात्रों के आन्दोलन/विरोध का सामना करना पडा है.

अब इन सारी चीज़ों को ध्यान में रखकर देखें तो हमें क्या करना चाहिए? नए कुलपति/वाईस-चांसलर साहब की नियुक्ति हुई है, वो अपने संघ के एजेंडे पर बेशर्मी और पूरी इमानदारी के साथ काम कर रहे है. उनको जे.एन.यू. के कैरेक्टर को ख़त्म करना है. ऐसे समय में छात्र-आन्दोलन की ज़िम्मेदारी क्या होगी? क्या हम लोग इस देश के छात्र-आन्दोलन के प्रति जवाबदेह नहीं है जबकि आज एक ऐतिहासिक जवाबदेही हमारे कंधो पर है. जे.एन.यू. के छात्र-आन्दोलन को इस देश में एक सम्मानजनक स्थान हासिल है. कई लोग तो इसे भारतीय छात्र-आन्दोलन का लाइट हाउस तक भी कह देते हैं. यह सही बात है कि हम जब किसी आन्दोलन में होते हैं तो हम यह तय करते है  कि इस आन्दोलन से हमें कम से कम क्या निकाल कर लाना है. लेकिन इस आन्दोलन में क्या कुछ कम-ज्यादा/ मिनिमम-मैक्सिमम जैसा कुछ भी है? यह तो पूरे जे.एन.यू. को बचाने की लड़ाई है. यह देश के लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई है. यह आन्दोलन सिर्फ आये हुए संकट को टाल देने के लिए नहीं है, बल्कि आने वाली पीढ़ियों के प्रति जवाबदेही के लिए भी है. अगर इस आन्दोलन को लेकर सोचने का नज़रिया होगा तो यह बिलकुल नहीं होगा कि इस आन्दोलन से कैसे निकला जाए, बल्कि यह होगा कि इस आन्दोलन में कैसे और धंसा जाए और इसे और कैसे धारदार बनाया जाये. अगर “उन्होंने” कुछ तय कर लिया है तो हमें भी कुछ तय करना होगा. हम किसी मुगालते या भावुकता में भूख हड़ताल में नहीं बैठे हैं बल्कि पूरी तरह से सोची समझी गयी राजनीतिक प्रतिबद्धता के साथ हम इस आन्दोलन में गए हैं. हम भी नहीं जानते है कि हमारी लड़ाई का अंजाम क्या होगा. आज हम अपनी लड़ाई को रोहित वेमुला की लड़ाई से अलग करके नहीं देखते हैं. रोहित ने हमें संदेश दिया कि अगर बर्बाद ही होना है तो लड़ते हुए बर्बाद हो. रोहित हम तुम्हारे दिखाए हुए रास्ते पर चल रहे हैं.

अनन्त प्रकाश नारायण

(लेखक जे.एन.यू. के सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ़ लॉ एंड गवर्नेंस के शोध-छात्र हैं और जे.एन.यू. छात्र संघ के पूर्व उपाध्यक्ष हैं.)

JNU Hunger Strike Day 12 : Game On – Students 1, Media, Authorities 0

The JNU Students’ Hunger Strike Enters Day 12. Ketone counts go up, Weight goes down, Morale stays miles high. Media fatigue shows that crusading news anchors are no match to hunger striking students when it comes to stamina, and, may we say, courage. The university authorities, the JNU VC and his gang, the government, the RSS-ABVP, remain what they are – losers.

(Images taken, with thanks, from the ‘We are JNU‘ Facebook Page, and the ‘Mothers Stand with JNU‘ Facebook Page.)

This slideshow requires JavaScript.

MEANWHILE, RADIOSILENCE CONTINUES (BESIDES RAVISH KUMAR’S SHOW) ON MAINSTREAM MEDIA

13177661_10153973732855546_8091436192653453340_n

This slideshow requires JavaScript.